content-cover-image

Nirbhaya Case: तीसरी बार टली फांसी, हमारा सिस्टम अपराधियों का मददगार बन गया?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Nirbhaya Case: तीसरी बार टली फांसी, हमारा सिस्टम अपराधियों का मददगार बन गया?

पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया केस के चारों दोषियों की फांसी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। अदालत ने एक दोषी पवन गुप्ता की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित होने के चलते यह फैसला सुनाया। यह तीसरी बार है, जब दोषियों की फांसी टाली गई है। पवन ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन खारिज होने के तुरंत बाद दया याचिका दाखिल की थी।दोषी के वकील एपी सिंह ने दलील दी थी कि जब तक राष्ट्रपति इस पर फैसला नहीं लेते, तब तक अदालत डेथ वॉरंट पर रोक लगाए। फांसी पर रोक के बाद निर्भया की मां ने कहा कि सजा पर बार-बार रोक लगना सिस्टम की नाकामी दिखाता है। हमारा पूरा सिस्टम ही अपराधियों का मददगार है। निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, अदालत दोषियों को फांसी देने के अपने ही आदेश पर अमल करने में इतना वक्त क्यों लगा रही है? सजा पर बार-बार रोक लगना सिस्टम की नाकामी दिखाता है। हमारा पूरा सिस्टम ही अपराधियों की मदद करता है। इस बीच, तिहाड़ प्रशासन ने जानकारी दी कि पवन जल्लाद ने सोमवार को जेल में चारों दोषियों की डमी को फांसी देने की प्रक्रिया पूरी की। पटियाला हाउस कोर्ट अब तक तीन बार चारों दोषियों के डेथ वॉरंट जारी कर चुका है। लेकिन, हर बार गुनहगारों ने कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल किया, जिससे फांसी टल गई।

Show more

content-cover-image
Nirbhaya Case: तीसरी बार टली फांसी, हमारा सिस्टम अपराधियों का मददगार बन गया?मुख्य खबरें