content-cover-image

आधी रात को उठकर लोग हड़बड़ाए हुए ATM की तरफ़ क्यों भागे?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आधी रात को उठकर लोग हड़बड़ाए हुए ATM की तरफ़ क्यों भागे?

रात को आई एक ख़बर ने बैंक के खाताधारकों में खलबली मचा दी. लोग पैसे निकालने के लिए ATM दौड़े. इससे कई ATM के सामने लोगों की लंबी लाइन आधी रात में देखने को मिली. भारतीय बैंकिंग के लिए एक और काला दिन. Yes Bank में जिनके रुपए जमा थे, उनके लिए बुरा दिन साबित हुआ. मामला ये है कि रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) ने Yes Bank के कामकाज पर आंशिक रूप से रोक लगा दी. 3 अप्रैल तक के लिए अब Yes Bank का कामकाज RBI के जिम्मे होगा. एक महीने में 50,000 से ज़्यादा की रक़म नहीं निकाली जा सकती. अब जिनके पैसे यस बैंक में जमा थे, वो हड़बड़ा गए. लोंगो से पूछा गया कि पैसे निकले? तो शुरुआती जवाब मिला 'नहीं', क्योंकि जैसे ही लोगों ने दूसरे बैंक के एटीएम में यस बैंक का एटीएम कार्ड लगाया, एटीएम ने हाथ खड़े कर दिए. पहले तो लोग समझे कि पैसे डूब गए. लेकिन बाद में ख़बर आई कि यस बैंक के एटीएम से पैसे निकल रहे हैं. आधी रात को इसी वजह से यस बैंक के सारे एटीएम के आगे भीड़ लग गई. लोग रातभर इस एटीएम से उस एटीएम भागते रहे. दरअसल RBI ने, यस बैंक को ‘मोराटोरियम’ में रख दिया है. ‘मोराटोरियम’ बोले तो यस बैंक की बैंकिंग गतिविधियों पर आंशिक रूप से रोक लगा दी गई है. RBI का कहना है कि- यस बैंक की वित्तीय स्थिति में लगातार गिरावट आई है. इसका कारण ये रहा कि संभावित ऋण घाटे से उबरने के लिए यस बैंक पूंजी जुटाने में असमर्थ रहा. बैंक के साथ गंभीर गवर्नेंस इश्यूज़ हैं. यस बैंक अपने को रिस्ट्रक्चर कर पाए, इसके लिए RBI ने उसे हरसंभव सहयता दी. साथ ही उसे मौके दिए कि वो कुछ पैसे बैंक के लिए इकट्ठा कर पाए. लेकिन इन सब से कोई फायदा होता नहीं दिखा. बैंक के बोर्ड को 30 दिनों की अवधि के लिए अधिगृहीत किया गया है. भारतीय स्टेट बैंक के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी प्रशांत कुमार को यस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है. अगले आदेश तक बैंक के ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा 50,000 रुपये तय की गई है. बता दें कि ऐसी स्थिति लोंगो के सामने पहली बार नहीं आई है , इससे पहले, पिछले साल सितंबर में PMC बैंक के साथ ऐसा हो चुका है. उसके केस में तो निकासी की सीमा शुरू में सिर्फ 1,000 रुपये तय की गई थी. हालांकि इसे बाद में बढ़ाकर पहले 10,000 फिर 50,000 कर दी गई थी.

Show more
content-cover-image
आधी रात को उठकर लोग हड़बड़ाए हुए ATM की तरफ़ क्यों भागे?मुख्य खबरें