content-cover-image

Yes Bank Crisis: CBI की बड़ी कार्रवाई, 13 के खिलाफ केस दर्ज

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Yes Bank Crisis: CBI की बड़ी कार्रवाई, 13 के खिलाफ केस दर्ज

सीबीआई ने यस बैंक (Yes Bank) मामले में राणा कपूर (Rana Kapoor) समेत 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. सीबीआई ने ये मामला दिल्ली की आर्थिक अपराध शाखा (Economic offence wing) ने दर्ज किया है और सोमवार (9 मार्च) सुबह से मुंबई की 7 जगहों पर छापेमारी की जा रही है. सीबीआई ने जो मामला दर्ज किया है उसके मुताबिक ये जालसाजी अप्रैल-जून 2018 से चल रही है जब यस बैंक ने डीएफएचएल (डीएफएचएल) के 3700 करोड़ के डिबेंचर खरीदे थे जिसके बदले में डीएफएचएल ने किकबैक के तौर पर 600 करोड़ रुपये दिये. ये पैसे बिल्डर लोन कर तौर पर राणा कपूर की पत्नी और बेटी की कंपनी मैसर्स डूइट अर्बन वेंचर्स (इंडिया) प्रा.लि. को दिये गये थे. कंपनी में बिंदू कपूर (राणा कपूर की पत्नी) की 100 फिसदी हिस्सेदारी है. इसके अलावा रोशनी कपूर, राधा कपूर खन्ना और राखी कपूर टंडन की भी हिस्सेदारी है. ये हिस्सेदारी मैसर्स मोरगन क्रेडिट प्रा लि के तौर पर है. एफआईआर के मुताबिक डीएफएचएल ने जो 600 करोड़ का लोन डूइट (Doit) को दिया था वो बेहद सस्ती प्रॉपर्टी को मंहगी बता कर दिया गया और खेती की जमीन को रिहाईशी जमीन बताया गया. इतना ही नहीं डीएफएचएल ने अभी तक यसबैंक के 3700 करोड़ के डिबेंचर को रिडीम भी नहीं किया है. जांच में ये भी पता चला है कि यसबैंक ने 750 करोड़ रुपये धीरज राजेश कुमार वाधवान की कंपनी मैसर्स आरकेडब्ल्यू डेवलपर्स प्रा.लि. जोकि डीएफएचएल की ही एक कंपनी है को बांद्रा प्रोजेक्ट के लिये लोन दिया था. ये पूरा पैसा कपिल वाधवान ने बिना कुछ काम किये डीएफएचएल में ट्रांसफर कर लिया. जांच में ये साफ हुआ कि राण कपूर नें डीएफएचएल में निवेश के नाम पर अपनी पत्नी और बेटी की कंपनी के लिये फायदे लिये और लोन के बदले में किकबैक के तौर पर पैसे लिए.

Show more
content-cover-image
Yes Bank Crisis: CBI की बड़ी कार्रवाई, 13 के खिलाफ केस दर्जमुख्य खबरें