content-cover-image

SBI के बाद Yes Bank में निवेश के लिए आगे आए प्राइवेट बैंक

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

SBI के बाद Yes Bank में निवेश के लिए आगे आए प्राइवेट बैंक

वित्तीय संकट झेल रहे यस बैंक के पुनर्गठन की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. शुक्रवार को कैबिनेट ने बैंक के इसके रोडमैप को मंज़ूरी दे दी. एसबीआई (SBI) समेत कई बड़े निजी बैंक यस बैंक में स्टेक खरीदेंगे. शुक्रवार को भारतीय शेयर बाज़ार के नाटकीय उतार-चढ़ाव के बीच केंद्रीय कैबिनेट ने यस बैंक के पुनर्गठन की योजना को मंज़ूरी दी. इसके तहत एसबीआई यस बैंक का 49 फ़ीसदी हिस्सा खरीदेगी यस बैंक के ग्राहकों को नकदी निकासी पर लगी पाबंदी से जल्दी राहत मिलेगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि वित्तीय संकट से जूझ रहे यस बैंक से नकद निकासी पर रोक और अन्य पाबंदियों को एसबीआई की राहत पैकेज योजना के अधिसूचित होने के तीन दिन के भीतर हटा लिया जाएगा. योजना जल्द अधिसूचित होगी. इस बीच, निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी (HDFC) ने 1,000-1,000 करोड़ रुपये निवेश की घोषणा की है. इस निवेश से आईसीआईसीआई बैंक की यस बैंक में 5 प्रतिशत से अधिक इक्विटी हिस्सेदारी हो जायेगी. वहीं एक्सिस बैंक 60 करोड़ शेयर खरीदने के लिये 600 करोड़ रुपये निवेश करेगा. इसके अलावा कोटक महिन्द्रा बैंक ने भी 500 करोड़ रुपये निवेश की घोषणा की है. सीतारमण ने कहा कि केंद्रीय बैंक (RBI) यस बैंक पर पांच मार्च से लगी आरबीआई (RBI) की पाबंदियों से बाहर निकालने की योजना के तहत निवेश को लेकर अन्य वित्तीय संस्थानों से बातचीत कर रहा है. रिजर्व बैंक ने पांच मार्च को यस बैंक पर के कामकाज पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी थीं. इसमें ग्राहकों के लिए एक माह के दौरान 50,000 रुपये तक निकासी सीमा तय की गई थी. यह रोक तीन अप्रैल तक के लिए लगायी गयी.

Show more
content-cover-image
SBI के बाद Yes Bank में निवेश के लिए आगे आए प्राइवेट बैंकमुख्य खबरें