content-cover-image

आम आदमी के लिए राहत की खबर! थोक महंगाई दर में कमी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आम आदमी के लिए राहत की खबर! थोक महंगाई दर में कमी

साल 2019 की समान अवधि में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 2.93 फीसदी थी। सरकार ने सोमवार को मुद्रास्फीति की आंकड़े जारी किए, जिसके अनुसार मुख्य रूप से खाने-पीने के सामान के जनवरी के मुकाबले फरवरी में सस्ता होने के कारण थोक महंगाई दर में यह कमी आई है। महंगाई दर में कमी आने की सबसे बड़ी वजह दालों और सब्जियों की कीमत में कमी है। लेकिन अंडे और मांस-मछली की महंगाई दर में थोड़ी तेजी फरवरी में देखने को मिली है। आलू की महंगाई दर में भी कमी देखी गई है। सब्जियों में इसके दाम में कमी का असर खाद्य महंगाई में कटौती के तौर पर देखा जा रहा है। अप्रैल में भारतीय रिजर्व बैंक अपनी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दरों की समीक्षा करेगा। RBI ने खुदरा मुद्रास्फीति के चार फीसदी पर सीमित करने का लक्ष्य रखा है। ऐसे समय में सरकार द्वारा मुद्रास्फीति के आंकड़े जारी होना अहम है। ऐसा इसलिए क्योंकि रिजर्व बैंक की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों को तय करने में मुद्रास्फीति जरूरी कारक होता है। मालूम हो कि फरवरी में आयोजित द्विमासिक बैठक में केंद्रीय बैंक ने महंगाई दर को देखते हुए रेपो रेट को यथावत रखने का निर्णय किया था।

Show more
content-cover-image
आम आदमी के लिए राहत की खबर! थोक महंगाई दर में कमीमुख्य खबरें