content-cover-image

आज की मुस्कान: ऐसा क्या किया कि दो भाई बन गए Corona Heroes

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आज की मुस्कान: ऐसा क्या किया कि दो भाई बन गए Corona Heroes

कोविड-19 ने पूरी दुनिया को मानो अपने घुटनों पर ला दिया है। हर एक देश में, डॉक्टर, नर्स, अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी दिन-रात काम कर रहें हैं। ऐसा लगता है जैसे उनकी जंग वक़्त के साथ है और वे बस लोगों को बचाने में जुटे हैं। लेकिन यही लोग तो हैं जो ऐसी मुश्किल घडी में भी हर दिन हमारे- आपके चेहरे पर मुस्कान ला रहे हैं, स्वागत है आपका मुख्य खबर में. अच्छी बात यह है कि वे इस लड़ाई में अकेले नहीं है। बहुत से लोग, कॉर्पोरेट, स्टार्टअप्स, उनकी मदद के लिए अपने हाथ आगे बढ़ा रहें हैं। ऐसा ही एक ग्रुप है, बोसॉन मशीन्स– मुंबई का एक 3डी प्रिंटिंग स्टार्टअप। इस स्टार्टअप को दो इंजीनियर भाई, अर्जुन और पार्थ पांचाल ने शुरू किया है। वे दोनों सोच ही रहे थे कि कैसे वे COVID-19 से इस लड़ाई में अपना योगदान दे सकते हैं कि जसलोक अस्पताल के डॉ. स्वप्निल पारिख ने उनसे संपर्क किया। वह मुंबई स्थित ऐसा कोई संगठन ढूंढ रहे थे जो इस लड़ाई में योगदान देना चाहता हो और उनकी तलाश बोसॉन मशीन्स पर आकर रुकी। एक सप्ताह के भीतर, बोसॉन मशीन्स ने मुंबई के अस्पतालों में लगभग 5,000 फेस शील्ड की आपूर्ति की। फेस शील्ड डॉक्टरों के लिए N95 से ज्यादा उपयोगी है क्योंकि यह मुंह, आँख, नाक और ठोड़ी के साथ चेहरे के ज़्यादातर हिस्से को ढकती है। इस मुश्किल घड़ी में भारत यह खतरा नहीं उठा सकता कि डॉक्टर्स ही इस वायरस से संक्रमित हो जाएं। अंत में डॉ. पारिख सिर्फ इतना कहते हैं कि हम सबको सुरक्षित रहने की ज़रूरत है। हमें अर्जुन और पार्थ जैसे लोगों का साथ चाहिए, जो मेडिकल क्षेत्र से नहीं हैं पर फिर भी मदद कर रहें हैं। सब मिलकर काम करेंगे तो हम इस मुश्किल वक़्त को पार कर लेंगे। हम सबका प्रयास भारत को इस स्थिति से निकाल सकता है। ऐसी ही कुछ दिल खुश करने वाली प्रेरणादायक कहानियों,किस्सों और ख़बरों के लिए हमसे जुड़े हर सुबह ठीक 6 बजे.

Show more
content-cover-image
आज की मुस्कान: ऐसा क्या किया कि दो भाई बन गए Corona Heroes मुख्य खबरें