content-cover-image

स्मार्टफोन के 'ग्रीन सिग्नल' से चल रहा है चीनियों का जीवन, कोरोना के बाद ऐसी है स्थिति

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

स्मार्टफोन के 'ग्रीन सिग्नल' से चल रहा है चीनियों का जीवन, कोरोना के बाद ऐसी है स्थिति

चीन में कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद की जिंदगी स्मार्टफोन के एक ग्रीन सिग्नल से चलने लगी है. हरा संकेत एक ऐसा ‘स्वास्थ्य कोड’ है जो बताता है कि यह व्यक्ति संक्रमण के लक्षण से मुक्त है. यह संकेत किसी सबवे में जाने, किसी होटल में प्रवेश या वुहान में दाखिल होने के लिए जरूरी है. बता दें कि वुहान इस वायरस का केंद्र रहा है और यहां दिसंबर में यह महामारी फैल गई थी. इस स्वास्थ्य कोड का बनना इसलिए संभव हो पाया क्योंकि चीन में लगभग सभी लोगों के पास स्मार्टफोन है. चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के पास अपने नागरिकों की निगरानी और उन्हें नियंत्रण में रखने के लिए लोगों की जानकारियों का ‘बिग डेटा’ है. कपड़े का उत्पादन करने वाली कंपनी की एक प्रबंधक वु शेंगहोंग ने बुधवार को वुहान सबवे स्टेशन पर अपना स्मार्टफोन निकाला और वहां लगे एक पोस्टर के बार कोड को अपने फोन से स्कैन किया. इससे उनका पहचान पत्र संख्या और हरा संकेत आ गया. इसके बाद सबवे पर मास्क और चश्मा पहने एक गार्ड ने उन्हें आगे जाने की इजाजत दी. अगर यह कोड लाल आता तो गार्ड को इसकी जानकारी मिल जाती कि या तो वह संक्रमित हैं या उन्हें बुखार और अन्य लक्षण हैं. वहीं येलो कोड यह बताता कि वह संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आई हैं और दो सप्ताह तक क्वारंटीन में समय नहीं बिताया है. इसके बाद उन्हें किसी अस्पताल या घर में क्वारंटीन में रखा जाता है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने मंगलवार को साइंस जर्नल ‘साइंस’ में प्रकाशित ‘डिजिटल कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग यानी डिजिटलीकरण के माध्यम से संपर्कों को पता लगाना’ रिपोर्ट में कहा है कि चीन के इस तरीके को अन्य सरकारों को भी अपनाना चाहिए. यहां ट्रेनों में तय दूरी बनाए रखने के संकेत लगे हुए हैं और ट्रेन से उतरने के बाद भी फिर से स्कैन करना होता है.

Show more
content-cover-image
स्मार्टफोन के 'ग्रीन सिग्नल' से चल रहा है चीनियों का जीवन, कोरोना के बाद ऐसी है स्थितिमुख्य खबरें