content-cover-image

नहीं मान रहे लोग, अब निकली रथयात्रा, पुलिस पर पथराव

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

नहीं मान रहे लोग, अब निकली रथयात्रा, पुलिस पर पथराव

लॉकडाउन के दौरान धार्मिक आयोजनों के नाम पर इकट्ठा होने के कई मामले देखने को मिले हैं. सोशल डिस्टेंसिंग की तमाम अपीलों के बावजूद. ऐसा ही एक मामला महाराष्ट्र के सोलापुर का है जहां पर एक रथयात्रा निकली. सैंकड़ों लोग आए. लेकिन लॉकडाउन के चलते पुलिस ने इन्हें रोकने की कोशिश की. इस पर गांव वालों ने पथराव शुरू कर दिया. कई पुलिसवाले घायल हो गए. 100 से ज़्यादा लोगों पर मामला दर्ज हुआ है. 22 लोगों को हिरासत में लिया गया है. सोलापुर के वागदरी गांव मे ग्रामदेवता परमेश्वर का त्योहार मनाया जाता है. ये त्योहार पांच दिन तक चलता है. लॉकडाउन में मंदिर बंद है. यात्रा भी रद्द की गई थी. लेकिन रथयात्रा वाले दिन पुलिस ने कुछ लोगों को रथ की पूजा करने की इजाज़त दी. जैसे ही पूजा शुरू हुई गांव के लोग इकट्ठा होने लगे और रथयात्रा निकालने लगे. पुलिस ने इन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन पथराव शुरू हो गया. धार्मिक आयोजन के नाम पर एक जगह इकट्ठा होने की आलोचना भी हो रही है. 2 अप्रैल, रामनवमी पर तेलंगाना से कुछ तस्वीरें सामने आईं. राज्य के दो मंत्री रामनवमी मनाने के लिए मंदिर पहुंचे. अलोला इंद्रकरण रेड्डी, जो तेलंगाना के पर्यावरण, कानून और वन्य विभाग संभालते हैं, वो श्री सीता रामचंद्र स्वामी मंदिर गए. ट्रांसपोर्ट विभाग संभाल रहे मंत्री पुव्वाडा अजय कुमार भी मौजूद रहे. दोनों मंत्री अपने परिवार के साथ मंदिर गए थे. इसकी तस्वीरों में भीड़ भी देखी गई. इससे पहले मार्च में दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में हुए तबलीगी जमात में कई हज़ारों लोग शामिल हुए थे. तब दिल्ली सरकार ने एक जगह इकट्ठा ना होने का आदेश दिया था. उस जमात में विदेशों से भी शामिल हुए थे. कार्यक्रम के बाद सब अपने-अपने घर लौट गए. कोरोना वायरस के तमाम मामले सामने आए, जिनका लिंक इस कार्यक्रम से है.

Show more
content-cover-image
नहीं मान रहे लोग, अब निकली रथयात्रा, पुलिस पर पथरावमुख्य खबरें