content-cover-image

Top 5 News 4th April '20: सोने से पहले जानिए दिन भर की हलचल

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Top 5 News 4th April '20: सोने से पहले जानिए दिन भर की हलचल

Top 5 News 4th April '20 : सोने से पहले जानिए दिन भर की हलचल -एक बार फिर 8 तारीख को प्रधान मंत्री करेगें संबोधित लेकिन इस बार राजनीतिक दलों को... देश में कोरोना संकट के बीच पीएम नरेंद्र मोदी 8 अप्रैल को सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राजनीतिक दलों से बात करेंगे। वीडियो कांन्फ्रेंसिंग में वही दल शामिल होंगे जिनसे संसद में पांच से अधिक सांसद है। पीएम मोदी के इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की जानकारी केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने दी है। is beech राहुल गांधी ने उठाये सवाल बोले - ताली बजाना, दीया जलाना हल नहीं, कोरोना से जंग के लिए ज्यादा टेस्ट जरूरी -देश में कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 2,902 हुई. 83 लोग ठीक हो गए हैं aur इस महामारी से अब अब तक 68 लोगों की जान जा चुकी है.मंत्रालय के मुताबिक, तबलीगी जमात से जुड़े कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक 1,023 मामले 17 राज्यों में दर्ज किए गए हैं. संक्रमण के शिकार लोगों में एक अलग ट्रेंड भारत में सामने आ रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक यूरोप और पूरी दुनिया से ठीक अलग भारत में सबसे ज्यादा बुजुर्ग नहीं बल्कि बीच वाली उम्र और कम उम्र के लोग हो रहे हैं संक्रमण के शिकार . - अब बात रेलवे की.. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के मकसद से देश में लागू 21 दिन के लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल को खत्‍म हो जाएगी। मोदी सरकार की ओर से ये स्‍पष्‍ट भी कर दिया गया है कि लॉकडाउन की अवधि आगे बढ़ाने का कोई इरादा नहीं है। ऐसे में खबरें सामने आईं कि रेल सेवाएं भी 15 अप्रैल से बहाल हो सकती है। रेलवे बुकिंग शुरू होने से इस अफवाह को और अधिक बल मिला। हालांकि, वरिष्ठ अधिकारियों ने इसका खंडन करते हुए कहा है कि कोई भी नए आदेश जारी नहीं किए गए हैं। - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पांच अप्रैल को रात 9:00 से 9:09 बजे के बीच स्वेच्छा से लाइटें बंद रखने की अपील की है। कुछ रिपोर्टों में ऐसी आशंकाएं व्यक्त की गई हैं कि इससे वोल्टेज में उतार-चढ़ाव के कारण ग्रिड प्रभावित हो सकते हैं जिससे बिजली के उपकरणों को नुकसान भी हो सकता है। अब विद्युत मंत्रालय ने बयान जारी करके स्‍पष्‍ट किया है कि ऐसी आशंकाएं गलत हैं। -वहीँ सुप्रीम कोर्ट की ई-कमेटी के चेयरपर्सन जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने हाईकोर्ट के जजों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए एक बैठक की, जिसमें कहा गया है कि ऐसी समितियों के प्रमुखों को अविलंब मामले की सुनवाई सुनिश्चित की जाए और मुकदमों की सुनवाई के दौरान unhein अदालत में आने की जरूरत नहीं है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा आयोजित अदालती कार्यवाही की लाइव स्ट्रीमिंग की संभावना पर भी चर्चा की लेकिन बैंडविड्थ और समर्पित सर्वर की उपलब्धता जैसे तकनीकी मुद्दों के आकलन के आधार पर, यह महसूस किया गया कि रिकॉर्डिंग को अदालत में वेबसाइट के जरिए होस्ट किया जाना चाहिए ताकि लोग आसानी से इससे जुड़े सकें।

Show more
content-cover-image
Top 5 News 4th April '20: सोने से पहले जानिए दिन भर की हलचल मुख्य खबरें