content-cover-image

COVID19 से सदी का सबसे बड़ा आर्थिक संकट, 90 देश मांग रहे कर्ज: IMF

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

COVID19 से सदी का सबसे बड़ा आर्थिक संकट, 90 देश मांग रहे कर्ज: IMF

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष का मानना है कि 2020 का साल वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए काफी खराब रहने वाला है. IMF का अनुमान है कि इस साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में 1930 के दशक की महामंदी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिलेगी. IMF की निदेशक क्रिस्टलीना जॉर्जिवा ने गुरुवार को कहा कि 2020 में दुनिया के 170 से ज्यादा देशों में प्रति व्यक्ति आय घटेगी. जॉर्जिवा ने अगले हफ्ते होने वाली आईएमएफ और विश्वबैंक की बैठक से पहले ‘संकट से मुकाबला: वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए प्राथमिकताओं’ विषय पर अपने संबोधन में कहा कि आज दुनिया ऐेसे संकट से जूझ रही है जो उसने पहले कभी नहीं देखा था. कोविड-19 ने हमारी आर्थिक और सामाजिक स्थिति को काफी तेजी से खराब किया है. उन्होंने कहा कि इस वायरस से लोगों की जान जा रही है और इससे मुकाबले के लिए लॉकडाउन करना पड़ा है जिससे अरबों लोग प्रभावित हुए हैं. जॉर्जिवा ने कहा कि दुनिया इस संकट की अवधि को लेकर असाधारण रूप से अनिश्चित है. लेकिन यह पहले ही साफ हो चुका है कि 2020 में वैश्विक वृद्धि दर में जोरदार गिरावट आएगी. आईएमएफ के पास कर्ज देने की क्षमता में 1 ट्रिलियन डॉलर है. इस आपातकालीन समय में 90 देश आईएमएफ से एमरजेंसी फंडिंग के तहत कर्ज की मांग कर रहे हैं. जॉर्जिवा ने कहा कि संसाधनों की कमी की वजह से सबसे पहले उन्हें मांग-आपूर्ति के झटकों से जूझना होगा. इसके अलावा उनकी वित्तीय स्थिति प्रभावित होगा. इसके अलावा उनपर कर्ज का बोझ बढ़ेगा.

Show more
content-cover-image
COVID19 से सदी का सबसे बड़ा आर्थिक संकट, 90 देश मांग रहे कर्ज: IMFमुख्य खबरें