content-cover-image

Lockdown को 3 मई तक बढ़ाने के पीछे यह है PM Modi की रणनीति..

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Lockdown को 3 मई तक बढ़ाने के पीछे यह है PM Modi की रणनीति..

कोरोनावायरस को लेकर जारी लॉकडाउन के बीच देशभर में 3,00000 से ज्यादा लोग क्वारेंटाइन किए गए हैं और इतनी सख्ती के बीच उनमें से कितने लोगों की टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आती है, सरकार का अगला कदम तय करने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होगी. सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों की अगर मानें तो पाबंदियों में बिना कोई ढील दिए लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले के पीछे कोरोनावायरस से बुरी तरह प्रभावित इलाके जिन्हें रेड जोन माना गया है, उन इलाकों में पृथक रखे गए लोगों पर नजर रखने की रणनीति से प्रेरित है. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि, 'इन आंकड़ों के साथ भारत को युद्धस्तर पर COVID-19 के खिलाफ अपनी लड़ाई में कमर कसने की जरूरत है. सभी राज्यों ने सर्वसम्मति से लॉकडाउन का विस्तार करने पर सहमति जताई है और हमें उम्मीद है कि अगले दो सप्ताह में हम मामलों पर रोक लगाने में कामयाब हो पाएंगे. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन ने सरकार को कन्टेनमेंट जोन की पहचान करने में मदद की है. पुलिस अधिकारियों के साथ-साथ स्टेट अथॉरिटी ऐसे कल्सटर्स की पहचान करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं. ' महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 66 हजार 311 लोग आइसोलेशन में रखे गए हैं, वहीं उत्तराखंड इस मामले में दूसरे स्थान पर है. यहां 373 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं और 55, 793 लोगों को घर में ही क्वारंटाइन किया गया है. यहां आइसोलेशन में रखे गए लोगों की संख्या अब तक 55 हजार 793 है. बता दें कि राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 35 है. राजस्थान इस मामले में तीसरे स्थान पर है. यहां 35 हजार 843 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है. वही, इसके बाद उत्तर प्रदेश का नंबर आता है, जहां 31 हजार 158 लोग आइसोलेशन में रखे गए हैं. गृह मंत्रालय का कहना है कि राज्य में 8,836 लोग अलग-अलग इसोलेशन सेंटर में रखे गए हैं, जबकि 22,322 को उनके घर में ही रहने को कहा गया है. उत्तर प्रदेश में सबसे पहले 00 से अधिक कन्टेन्मेंट जोन घोषित किए गए थे. उधर, हरियाणा में भी अलग-अलग कन्टेन्मेंट जोन में 16224 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है. राज्य में अब तक 978 लोकों को आइसोलेशन वार्ड में जबकि 15, 246 लोगों को होम क्वारेंटाइन किया गया है.झारखंड और दिल्ली में लगभग यह आंकड़ा एक जैसा है. झारखंड में 14, 548 लोगों को, जबकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 15,327 लोगों को क्वारेंटाइन में रखा गया है. दिल्ली में अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 1510 है और यहां 28 लोगों की मौत हो चुकी है. महाराष्ट्र के बाद दिल्ली में ही कोरोना से सबसे ज्यादा मामले हैं. पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमितों की संख्या 95 है और 329 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है. उधर, केरल की कोरोना के 375 मामले हैं और 800 लोगों को निगरानी में रखा गया है. गुजरात में कोरोना के 14 मामले हैं और 204 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया, जबकि बिहार में 11, 998, पंजाब में 10,064, और जम्मू कश्मीर में 9,598 लोग आइसोलेशन में रखे गए हैं.

Show more
content-cover-image
Lockdown को 3 मई तक बढ़ाने के पीछे यह है PM Modi की रणनीति..मुख्य खबरें