content-cover-image

WHO का फंड रोक पूरी दुनिया में कोरोना का खतरा बढ़ा रहे Trump

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

WHO का फंड रोक पूरी दुनिया में कोरोना का खतरा बढ़ा रहे Trump

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के सबसे बड़े डोनर अमेरिका ने फंडिंग पर रोक लगाने का ऐलान कर दिया है. 14 अप्रैल को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि कोरोनावायरस से गलत तरीके से निपटने और इस पूरे मामले को कवर करने को लेकर WHO की भूमिका की समीक्षा की जा रही है और फंडिंग रोका जा रहा है. ट्रंप का आरोप है कि WHO जान बचाने की बजाय पॉलिटिकल करेक्टनेस पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. ट्रंप WHO पर चीन को लेकर पक्षपाती होने का भी आरोप लगा चुके हैं. यूनाइटेड नेशंस के सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटारेस का कहना है कि ये WHO की फंडिंग रोकने का 'सही वक्त' नहीं है, उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब पूरी दुनिया वायरस को रोकने के लिए एक साथ काम कर रही है, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन को सपोर्ट किया जाना चाहिए. बता दें कि सेकेंड वर्ल्ड वॉर के बाद स्थापित WHO कोरोनावायरस जैसी महामारी की स्थिति में दुनियाभर के लिए सेंट्रल को-ऑर्डिनेटिंग बॉडी की तरह काम करता आया है. इसका काम है दुनिया की अलग-अलग हेल्थ एजेंसियों को गाइड करना, आपातकाल की घोषणा करना और आपात स्थिति में दुनिया के अलग-अलग देशों के बीच सूचनाओं और अहम जानकारी को साझा करना. ऐसे में जब दुनियाभर में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 2 मिलियन पार कर गई है. WHO का रोल और अहम हो जाता है और अमेरिका के फंड कट के ऐलान के बाद इसके कामकाज पर असर पड़ सकता है. WHO के दूसरे बड़े डोनर बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के चेयरमैन बिल गेट्स इस स्थिति को समझाते हुए कहते हैं कि WHO का फंड रोकना उतना ही खतरनाक है जितना कि ये सुनने में लगता है. WHO का काम कोरोना वायरस के संक्रमण को धीमा कर रहा है, अगर इस काम को रोक दिया जाता है, तो दुनिया में कोई भी दूसरा संगठन ये काम नहीं कर सकेगा. बिल गेट्स का कहना है कि कोई भी दूसरा संगठन WHO की जगह नहीं ले सकता. दुनिया को WHO की जरूरत है.

Show more
content-cover-image
WHO का फंड रोक पूरी दुनिया में कोरोना का खतरा बढ़ा रहे Trumpमुख्य खबरें