content-cover-image

भारत चीन से नहीं खरीदेगा PPE, क्वालिटी को लेकर उठे सवाल

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

भारत चीन से नहीं खरीदेगा PPE, क्वालिटी को लेकर उठे सवाल

भारत दुनिया के तमाम देशों से चिकित्सा उपकरण, टेस्टिंग किट और पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट) खरीदकर कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के विभिन्न विकल्पों पर काम कर रहा है. सूत्रों ने बताया कि चीन के गोंगझाउ एयरपोर्ट से गुरुवार को कोरोना वायरस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली किट्स की खेप भारत पुहंची. इस खेप में 650,000 टेस्टिंग किट्स शामिल हैं. चीन से भारत के लिए आई इस खेप में रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट और आरएनए एक्सट्रैक्शन किट्स भी शामिल हैं. कुल 6.5 लाख किट गुरुवार को भारत आई. दक्षिण कोरिया से भी टेस्टिंग किट आ रहा है. सूत्रों के मुताबिक इस सिलसिले में ब्रिटेन, फ्रांस, कनाडा, अमेरिका, मलेशिया, जर्मनी और जापान से भी कोटेशन मिले हैं. अन्य देशों को महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए, भारत ने उन देशों की तीन सूचियों का एक सेट तैयार किया जिन्हें मलेरिया-रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति की जानी है. दिलचस्प बात यह है कि सूत्रों ने बताया है कि चीन से भले ही टेस्टिंग किट आ रहे हैं, लेकिन उससे पीपीई की खरीद नहीं की जाएगी. बताया जा रहा है कि चीन के कई PPE खराब निकले हैं और मानकों पर खरे नहीं उतरे हैं. वहीं नई दिल्ली में चीनी दूतावास ने इन रिपोर्टों को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि वे मेडिकल उत्पादों के निर्यात को बहुत महत्व देते हैं. चीनी दूतावास की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक चीन ने हाल ही में इस संबंध में कड़े नियम बनाए हैं. इस तरह के उत्पादों के निर्यात से पहले कंपनी को स्टेट फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से सर्टिफिकेट लेना होता है. गुणवत्ता मानक को लेकर निर्यात किए जाने वाले देश से अनुमति मिलने के बाद ही सामान को भेजा जाता है.

Show more
content-cover-image
भारत चीन से नहीं खरीदेगा PPE, क्वालिटी को लेकर उठे सवालमुख्य खबरें