content-cover-image

आज की मुस्कान: महिला कॉन्स्टेबल जो ड्यूटी के बाद बनाती हैं मास्क

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आज की मुस्कान: महिला कॉन्स्टेबल जो ड्यूटी के बाद बनाती हैं मास्क

नमरकार दोस्तों, एक बार फिर स्वागत हैं आपका मुख्य ख़बरों में जहाँ निरंतर हम आपके चेहरे पर मुस्कान लाने का प्रयत्न करते आए हैं. एक लंबी शिफ्ट इतना थका देती है कि मन नहीं होता कुछ और करने का! लेकिन कोरोना वायरस के इस दौर में कई जांबाज हैं, जो दिन-रात काम कर रहे हैं ताकि इस महामारी को रोक सकें। ऐसा ही एक नाम है बी. अमरेश्वरी का, जो एक महिला कॉन्सटेबल हैं। जब वह 15 घंटे की लंबी शिफ्ट के बाद घर लौटती हैं तो आराम नहीं बल्कि सिलाई मशीन उठती हैं और कपड़े के मास्क सिलने लगती हैं। जी हां, वह अब तक तीन हजार मास्क बनकार लोगों में मुफ्त बांट चुकी है। कॉन्स्टेबल अमरेश्वरी के दिन की शुरुआत सुबह 3:30 बजे होती है। सबसे पहले वह खाना पकाती हैं। अपना लंच पैक करती हैं और गवर्नर के आवास पर सुबह 6 बजे पहुंचने के लिए Kattedhan स्थित अपने घर से 5:30 बजे निकल जाती हैं। इसके बाद जब वो रात 9:30 बजे लौटती हैं, तो मास्क सिलने के काम में जुट जाती हैं। जब तक वह 1 से 2 घंटे यह काम ना करें, उनका दिन अधूरा रहता है। उन्होंने राज्य में कोविड-19 के मामले आने के एक हफ्ते बाद मास्क बनाने शुरू किए। दरअसल, इसकी मुख्य वजह थी आम लोगों के बीच मास्क की कमी और उनकी कीमतों में होता इजाफा। जब भी उन्हें वक्त मिलता है तो वह पड़ोसियों और साथियों की मदद से उन्हें बांटती हैं। इस काम से उन्हें संतुष्टि मिलती है। बता दें, अमरेश्वरी तेलंगाना गर्वनर की पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर के तौर काम करती हैं। उनकी ड्यूटी अल्टरनेट डेज में होती है। मतलब, एक दिन छोड़कर। और हां, इस बिजी शेड्यूल के साथ वह अपने परिवार की देखभाल भी करती हैं, जिसमें उनके पिता, मां और दादी शामिल हैं। है न अद्भुत ? ऐसी ही प्रेरणादायक कहानियों, किस्सों और ख़बरों के लिए सुने मुख्य खबरें हर सुबह 6 बजे , ख़बरी पर.

Show more
content-cover-image
आज की मुस्कान: महिला कॉन्स्टेबल जो ड्यूटी के बाद बनाती हैं मास्कमुख्य खबरें