content-cover-image

कोरोना से लड़खड़ाई US की इकोनॉमी, 1930 के बाद सबसे अधिक बेरोजगारी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

कोरोना से लड़खड़ाई US की इकोनॉमी, 1930 के बाद सबसे अधिक बेरोजगारी

कोरोना संकट की वजह से दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका की इकोनॉमी लड़खड़ाई हुई नजर आ रही है. हालात ये हो गए हैं कि अमेरिका में बेरोजगारी 90 साल के उच्च्तम स्तर पर है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक बेरोजगारी की दर 1930 की महामंदी के बाद सबसे अधिक हो गई है. साल 1929-30 में इस मंदी की शुरुआत अमेरिका से हुई थी और उसने सारी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया था. इस दौरान अमेरिकी शेयर बाजार लगातार गिर रहे थे और निवेशकों को अरबों डॉलर की चपत लग गई थी. अमेरिका की सबसे अधिक मुनाफा कमाने वाली कंपनियां भी घाटे में जाने लगीं. कई बड़ी कंपनियों ने अपना शटडाउन कर दिया. इस हालात की वजह से 1 करोड़ से अधिक लोग बेरोजगार हो गए थे. बता दें कि 1930 की महामंदी के कई कारण थे. इनमें बैंको का विफल होना और शेयर बाजार की भारी गिरावट को प्रमुख कारण माना जाता है. इस मंदी की चपेट में दुनियाभर के देश आए थे. आंकड़े बताते हैं कि कोरोना वायरस महामारी के चलते प्रत्येक छह में एक अमेरिकी श्रमिक को नौकरी से निकाल दिया गया है. सरकार ने बताया कि पिछले सप्ताह 44 लाख से अधिक लोगों ने बेरोजगारी लाभ के लिए आवेदन किया. इसके साथ ही पिछले पांच सप्ताह में करीब 2.6 करोड़ लोग बेरोजगारी लाभ के लिए आवेदन कर चुके हैं. गहराते आर्थिक संकट का मुकाबला करने के लिए अमेरिकी संसद ने लगभग 500 अरब अमेरिकी डॉलर के पैकेज को मंजूरी दी है. वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी छोटे कारोबारियों और लाखों श्रमिकों को सहायता का भरोसा दिया है. इकोनॉमी की हालत को देखते हुए हाल ही में अमेरिका ने इमिग्रेशन को रोकने का फैसला लिया है.

Show more
content-cover-image
कोरोना से लड़खड़ाई US की इकोनॉमी, 1930 के बाद सबसे अधिक बेरोजगारीमुख्य खबरें