content-cover-image

कोरोना को जंग बताकर असल जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ा जा रहा?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

कोरोना को जंग बताकर असल जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ा जा रहा?

जैसे-जैसे कोरोना महामारी बढ़ रही है, वैसे-वैसे दुनियाभर के नेता इसे किसी युद्ध की तरह पेश कर रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुद को किसी युद्धकालीन राष्ट्रपति की तरह पेश किया है. न्यूयॉर्क राज्य में गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने स्वास्थ्यकर्मियों को सैनिक करार दिया. वहीं जापान, इटली और ब्रिटेन समेत वैश्विक मीडिया इसी तरह की युद्धाकालीन शब्दावलियों का इस्तेमाल कर रहा है. विशेषज्ञों ने लगातार इस तरह के शब्दों के खिलाफ चेतावनी दी है. इन शब्दों से वास्तविकता और प्रशासनिक जिम्मेदारी पर पर्दा डाला जाता है. इनसे डर, लोगों के बीच बंटवारा और अतिउत्साह पैदा किया जाता है. आज मन की बात संबोधन में प्रधानमंत्री ने देश के हर नागरिक को 'सिपाही' बताया. उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ 'लड़ाई' असल मायनों में जनता लड़ रही है. देश का जन-जन 'सिपाही' है और लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है. 24 मार्च को कोरोना पर अपने पहले भाषण में प्रधानमंत्री ने लोगों से लॉकडॉउन के लिए युद्ध के दौरान अपनाए जाने वाले ब्लैकऑउट्स और ड्रिल की यादें ताजा कीं. उन्होंने इसके जरिए संदेश दिया कि कोरोना की स्थिति दो विश्वयुद्दों से भी विकट है. 14 अप्रैल को उन्होंने इसी ट्रेंड को आगे बढ़ाया, जब प्रधानंत्री ने प्रवासी मजदूरों को भी अनुशासित सिपाही बताया. उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों को राष्ट्र का रक्षक और कोरोना योद्धा बताया. एक दूसरे मौके पर मोदी ने कहा कि महाभारत का युद्ध 18 दिन में खत्म हो गया था, कोरोना वायरस का 21 दिन चलेगा. पुणे स्थित 'इंडियन लॉ सोसॉयटी' के 'सेंटर फॉर मेंटल हेल्थ फॉर लॉ एंड पॉलिसी' के निदेशक सौमित्र पाथारे से बातचीत में इन विषयों पर गहराई से बात की गई है, उनका कहना है कि इस तरह के शब्दों में यह संदेश छुपा होता है कि आपको चुप रहना है और किसी तरह की शिकायत नहीं करनी है. क्योंकि यहां हर कोई दर्द सह रहा है. यह पूरी तरह गलत है, क्योंकि यह तो 'पेशेवर अव्यवस्था' है. स्वास्थ्यकर्मी एक ऐसे माहौल में काम करते हैं, जहां सरकारी या प्राइवेट नियोक्ताओं को उन्हें इन सुविधाओं को उपलब्ध करवाना चाहिए. लेकिन उन्हें 'योद्धा' बताकर आप सिस्टम और अपनी जिम्मेदारियों पर पर्दा डाल रहे हैं.

Show more
content-cover-image
कोरोना को जंग बताकर असल जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ा जा रहा?मुख्य खबरें