content-cover-image

मैथ टीचर से आतंकी बने Riyaz Naikoo पर था 12 लाख का इनाम, मुठभेड़ में ढेर

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

मैथ टीचर से आतंकी बने Riyaz Naikoo पर था 12 लाख का इनाम, मुठभेड़ में ढेर

सबसे लंबे समय तक हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर रहे आतंकी रियाज नायकू और उसके एक सहयोगी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है. बुधवार को रियाज नायकू के पैतृक गांव, पुलवामा जिले के बेगपोरा में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू हुई थी. जिसमें रियाज नायकू मारा गया है. रियाज नायकू पर 12 लाख का इनाम था. रियाज नायकू घाटी में मोस्ट वांटेड आतंकी था. 35 साल का नायकू गणित का टीचर रह चुका है. हिज्बुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर बॉय बुरहान वानी के मारे जाने के बाद नायकू तेजी से उभरा. इसके बाद एक और आतंकी सद्दाम पोद्दार के मारे जाने बाद उसे संगठन का कमांडर बनाया गया था. कानून और व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर सुरक्षाबलों ने इलाके में इंटरनेट सेवा बंद कर दी है. बुरहान की तरह, नायकू भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता था. सेना की हिटलिस्ट में वह नंबर एक पर आ गया था. नायकू कश्मीरी आतंकवाद का भारतीय चेहरा था. नायकू भागने और छुपने में बहुत माहिर था. कई मुठभेड़ों में बेहद करीब होते हुए भी वह हमेशा बच निकलने में कामयाब रहा. लेकिन मंगलवार की रात को बहुत सटीक 'खुफिया सूचना' पर उसे घेर लिया गया. संभावित सुरंगों या भूमिगत ठिकाने के बारे में जानकारी मिलने के बाद कई क्षेत्रों, रेलवे पटरियों को खोदा गया था. मंगलवार रात कॉर्डन सर्च ऑपरेशन शुरू किया था और यह सुबह तक चलता रहा. सुबह नौ बजे आतंकवादियों से सामना हुआ और मुठभेड़ शुरू हो गई..हालांकि, नायकू का मारा जाना हिज्बुल मुजाहिद्दीन के लिए एक बड़ा झटका है. लेकिन सुरक्षाबलों के खाते में आई एक बड़ी सफलता है. नायकू ने इस साल घाटी में दर्जनों युवकों की भर्ती​ की थी. कश्मीर घाटी में उसने कम से कम एक दर्जन युवकों को हिज्बुल में शामिल कराया था.

Show more
content-cover-image
मैथ टीचर से आतंकी बने Riyaz Naikoo पर था 12 लाख का इनाम, मुठभेड़ में ढेरमुख्य खबरें