content-cover-image

लॉकडाउन से निकल रहे देशों के लिए ‘स्वीडन मॉडल’ जानना जरूरी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

लॉकडाउन से निकल रहे देशों के लिए ‘स्वीडन मॉडल’ जानना जरूरी

कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया के ज्यादातर देशों में पिछले काफी समय से लॉकडाउन जारी है. हालांकि अब कई देश लॉकडाउन की पाबंदियों में छूट देना शुरू कर रहे हैं. एक देश ऐसा भी है, जिसने लॉकडाउन किया ही नहीं और महामारी की स्थिति को भी अच्छे से संभाला. ये देश स्वीडन है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि जो देश लॉकडाउन से निकल रहे हैं, उन्हें स्वीडन के मॉडल को समझना चाहिए. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए स्वीडन ने लॉकडाउन नहीं किया. देश में जनजीवन सामान्य रखा गया. सिर्फ बड़ी भीड़ इकट्ठा होने पर रोक लगाई गई. यहां तक कि रेस्टोरेंट और स्कूल भी खुले रखे गए. हालांकि, एक करोड़ की आबादी वाले स्वीडन में अभी तक 3 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. लेकिन ये आंकड़ा यूरोप के उन कई देशों से बेहतर है जिन्होंने लॉकडाउन किया. स्वीडन की सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग के लिए लोगों से अपील की थी. एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसे पुलिसिया आदेश से लागू नहीं किया गया क्योंकि लोगों और सरकार के बीच एक भरोसे का माहौल है. सरकार वहां लोगों पर भरोसा करती है तो लोग भी सरकार के साथ पूरा सहयोग करते हैं. यही कारण है कि वहां लोग सार्वजनिक जगहों पर नजर तो आते हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाता है. जब दुनिया के लगभग हर देश में सख्त लॉकडाउन लागू था, उस समय भी स्वीडन में लोगों को पार्क, रेस्टोरेंट, एम्यूजमेंट सेंटर जाने की आजादी थी. सिर्फ बुजुर्ग लोगों से घर पर रहने की अपील की गई थी. लॉकडाउन खोलना या जारी रखना किसी भी देश के लिए बेहद कठिन फैसला है. लेकिन स्वीडन के मॉडल से सबसे जरूरी सीख ये मिलती है कि सोशल डिस्टेंसिंग लॉकडाउन खोलने की सबसे बड़ी और जरूरी शर्त है.

Show more
content-cover-image
लॉकडाउन से निकल रहे देशों के लिए ‘स्वीडन मॉडल’ जानना जरूरीमुख्य खबरें