content-cover-image

देश में पहली बार इस राज्य से 'FIR आपके द्वार' प्रोजेक्ट शुरू..

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

देश में पहली बार इस राज्य से 'FIR आपके द्वार' प्रोजेक्ट शुरू..

मध्य प्रदेश के 10 संभागीय मुख्यालयों और दतिया के नागरिकों को अब गंभीर अपराधों को छोड़कर अन्य मामलों में एफआईआर कराने के लिए थाने नहीं जाना होगा। बल्कि, अपराध की सूचना सिर्फडायल 100 पर देनी होगी। इसके बाद एफआरवी (फर्स्ट रिस्पांस व्हीकल) लोगों के घर जाकर एफआईआर दर्ज करेगी। प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार को 'एफआईआर आपके द्वार' प्रोजेक्ट की शुरुआत की। पुलिस मुख्यालय में डीजीपी विवेक जौहरी समेत पुलिस के अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में एफआरवी वाहन को रवाना किया गया है। फिलहाल, इसपायलट प्रोजेक्ट को3 महीने के लिए शुरूकिया गया है। सभी संभागीय मुख्यालयों पर एक थाना शहरी क्षेत्र और एक ग्रामीण थाना क्षेत्र में योजना को लागू किया जाएगा। प्रदेश में10 संभागीय मुख्यालय में भोपाल, चम्बल, ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर, नर्मदापुरम, रीवा, सागर, शहडोल, उज्जैन संभाग के अलावादतिया गैर संभागीय मुख्यालय शामिल है। इससे पहले गृहमंत्री मिश्रा ने 6 मई को पुलिस और उनके परिवारों की सहायता के लिए हेल्प डेस्क शुरू की थी।अपना कर्तव्य निभाने के दौरान शहीद हुए पुलिस कर्मियों के परिवारों की सहायता हेल्प डेस्क के माध्यम से की जाएगी।इसका प्रभारी एडीजी और आईजी स्तर का अधिकारी रहेगा। इस डेस्क की जिम्मेदारी होगी कि पुलिसकर्मियों के बच्चों को एडमिशन लेने समेत परिवारवालों की हर संभव मदद करेंगे। गृहमंत्री ने कहा कि पुलिसकर्मियों के कल्याण की प्रक्रिया नीचे से ऊपर की ओर चलेगी।

Show more
content-cover-image
देश में पहली बार इस राज्य से 'FIR आपके द्वार' प्रोजेक्ट शुरू..मुख्य खबरें