content-cover-image

चक्रवाती तूफान का खतरा, राज्य सरकार ने की ट्रेनें रोकने की मांग

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

चक्रवाती तूफान का खतरा, राज्य सरकार ने की ट्रेनें रोकने की मांग

बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान अम्फान खतरनाक रूप ले सकता है. इस तूफान के ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तट से टकराने की आशंका है. चक्रवाती तूफान के खतरे को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 12 तटीय जिलों में अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग के मुताबिक, दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी में दबाव का क्षेत्र बना था, जो धीरे-धीरे चक्रवात में बदलने लगा है. यह चक्रवात 17 मई से बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम में पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के तट की तरफ बढ़ेगा. जो 18 मई यानी सोमवार को गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है. मौसम विभाग की ओर से मछुआरों को 18 से 20 तारीख के बीच ओडिशा और बंगाल के तटों से समंदर किनारे ना जाने की सलाह दी गई है. इसके अलावा जो मछुआरे समंदर तट पर मौजूद हैं, उन्हें भी 17 मई तक लौटने के लिए कहा गया है. मौसम विभाग का अनुमान है कि चक्रवात के दौरान हवाओं की रफ्तार 115 किलोमीटर/घंटा तक हो सकती है. साथ ही अंडमान-निकोबार आइलैंड समेत कई जगहों पर भारी बारिश की भी संभावना जताई गई है. तूफान की वजह से ज्यादातर तटीय राज्यों में बारिश हो सकती है. ओडिशा में चक्रवात के खतरे को देखते हुए प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार से मांग की है कि राज्य से होकर गुजरने वाली ट्रेनों को रोक दिया जाए. ओडिशा सरकार ने राज्य के तटीय इलाकों से होकर गुजरने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को 3-4 दिन के लिए निलंबित करने की सलाह दी है.

Show more
content-cover-image
चक्रवाती तूफान का खतरा, राज्य सरकार ने की ट्रेनें रोकने की मांगमुख्य खबरें