content-cover-image

मजबूर मज़दूर: UP-Bihar के लोगों को MP बॉर्डर पर डंप कर रही महाराष्ट्र सरकार

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

मजबूर मज़दूर: UP-Bihar के लोगों को MP बॉर्डर पर डंप कर रही महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश बॉर्डर का इलाका। जिला सेंधवा, मप्र का बड़ी बिजासन माता मंदिर परिसर। भीड़ ऐसी की शायद ही किसी पूजा या त्यौहार पर भी इस मंदिर में कभी हुई होगी। ये भीड़ है पूरे महाराष्ट्र से लाए गए यूपी और बिहार के लोगों की। रविवार रात के 9 बजे तक महाराष्ट्र सरकार ने अपने परिवहन विभाग की एसटी बसों से लगभग 4-6 हजार लोगों को मंदिर परिसर में लावारिस छोड़ दिया। बसों का आना उसके बाद भी जारी था। यहां न तो कोई यूपी-बिहार का अधिकारी था और न ही महाराष्ट्र सरकार का नुमाइंदा। यहां लोहे की चादर वाले एक बड़े पंडाल में सभी मजदूरों को छोड़ा जा रहा है, जहां सोशल डिस्टेंसिंग नामुमकिन है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार दो गज दूरी बनाए रखने की अपील कर रहे हैं, पर बड़ी बिजासन माता मंदिर परिसर में हजारों की संख्या में लोग एक-दूसरे से सटकर बैठे हुए थे। जो कई दिनों से सौ-सौ किमी पैदल चले हैं, वो वहीं थककर सो गए। वहां न तो महिलाओं के लिए टायलेट है न ही साफ पानी। बांद्रा से 25 लोगों का ग्रुप भी उन लोगों में शामिल हैं, जिन्हें एसटी बस से यहां छोड़ा गया। वे अब आगे वे कैसे जाएंगे, नहीं जानते? पुणे में रहने वाले राजेश को गोरखपुर जाना है। चूंकि परिवहन विभाग ने उन्हें सेंधवा, मध्य प्रदेश तक लाने का एक पैसा चार्ज नहीं किया। लिहाजा उन्हें लगता है कि यह सुविधा उन्हें यूपी के मुख्यमंत्री की ओर से मिली है। परंतु मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर आकर उन्हें समझ में आया कि असल में यहां तक उन्हें महाराष्ट्र सरकार ने छुड़वाया है और आगे मध्य प्रदेश सरकार की ओर से व्यवस्था की जाएगी।

Show more
content-cover-image
मजबूर मज़दूर: UP-Bihar के लोगों को MP बॉर्डर पर डंप कर रही महाराष्ट्र सरकारमुख्य खबरें