content-cover-image

कोरोना को लेकर सरकार ने जो सोचा था, उससे ठीक उल्टा हो रहा है!

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

कोरोना को लेकर सरकार ने जो सोचा था, उससे ठीक उल्टा हो रहा है!

लॉकडाउन का चौथा फेज़ शुरू हो चुका है. 18 मई की सुबह जारी हुई हेल्थ मिनिस्ट्री के बुलेटिन के मुताबिक, 24 घंटे में 5242 मामले सामने आ चुके हैं. एक दिन में कोरोना के इतना ज्यादा मामले इससे पहले नही आए थे. ये सरकार के उस ग्राफ के ठीक उलट है, जिसमें अनुमान लगाया गया था कि 16 मई के बाद भारत में कोरोना का एक भी नया मामला सामने नहीं आएगा. 24 अप्रैल को सरकार ने एक चार्ट रिलीज़ किया था. जिसमें कोरोना का कर्व फ्लैट होता दिख रहा था. नीति आयोग के मेंबर डॉक्टर वीके पॉल ने सरकार की रोजाना होने वाली प्रेस ब्रीफिंग में इसे सामने रखा था. कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र सरकार ने 11 एम्पावर्ड ग्रुप्स बनाए थे, डॉक्टर पॉल एम्पावर्ड ग्रुप-1 के हेड हैं. उन्होंने कहा था कि समय पर लॉकडाउन का फैसला लेना सही था. प्रेस ब्रीफिंग के तुरंत बाद PIB (प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो) ने डॉक्टर पॉल के ग्राफ को ट्वीट किया. लिखा कि मामलों के बढ़ने का डर नहीं है, ये बीमारी कंट्रोल में है. डॉक्टर पॉल के ग्राफ में दिख रहा था कि 16 मई को कोरोना का एक भी नया केस भारत में नहीं आएगा. और 30 अप्रैल के बाद कोरोना के नए मामलों के आने में भी कमी आने लगेगी. लेकिन ऐसा कुछ होता तो दिखा नहीं. 16-17 मई को सबसे ज्यादा मामले सामने आए. वो भी तब जब लॉकडाउन लगा हुआ ही है.

Show more
content-cover-image
कोरोना को लेकर सरकार ने जो सोचा था, उससे ठीक उल्टा हो रहा है!मुख्य खबरें