content-cover-image

आज की मुस्कान: क्या मजबूरी थी जो इस बेटी ने 1000 KM साईकिल चलाई?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आज की मुस्कान: क्या मजबूरी थी जो इस बेटी ने 1000 KM साईकिल चलाई?

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर स्वागत करते हैं आपका मुख्य ख़बरों में , आप सुन रहे हैं हमारी ख़ास पेशकश। लॉकडाउन की मार उन गरीबों पर सबसे अधिक पड़ी है जो आमदिनों में भी दो वक्त की रोटी बड़ी मुश्किल से जुटा पाते थे। भूखे मरने की नौबत आई तो कोई साइकिल से तो कोई पैदल अपने घर की ओर चल पड़ा। इस मुश्किल वक्त में साहस की ऐसी कहानियां भी सामने आई हैं, जिससे पता चलता है कि अपनी हिम्मत के दम पर इंसान बड़ी चुनौतियों का भी सामना कर सकता है। ऐसी ही एक कहानी है बिहार के दरभंगा जिले के 13 साल की ज्योति कुमारी की। ज्योति के पिता मोहन पासवान दिल्ली में रिक्शा चलाकर परिवार का पेट पालते थे। एक हादसे में उनका घुटना टूट गया। जख्म तो भर गए, लेकिन अब वह ठीक से चल भी नहीं पाते हैं। परिवार इस संकट से उबर पाता इससे पहले ही लॉकडाउन लग गया। जमा किए गए पैसे और राशन खत्म हो गए तो भूखे मरने की नौबत आ गई। सामने एक ही रास्ता था घर लौटना। ज्योति ने हिम्मत दिखाई। उसने पिता से कहा कि यहां भूखे मरने से अच्छा है चलिए गांव चलते हैं। दरभंगा दिल्ली से 1100 किलोमीटर दूर है। दिल्ली से दरभंगा आने में ज्योति को सात दिन लगे। ज्योति कहती है कि रास्ते में लोगों ने हमें खाना खिलाया, पानी पिलाया। मेरे पिता हादसे का शिकार हो गए थे। घर में न राशन था और न पैसा। ट्रक वाले बिहार ले जाने के बदले 3 हजार रुपए मांग रहे थे। पैसे नहीं थे तो ट्रक वाले को क्या देते? मकान मालिक रूम छोड़ने के लिए दबाव बना रहे थे। मेरे पास घर आने के लिए साइकिल के सिवा और कुछ नहीं था। ज्योति शनिवार को कमतौल थाना क्षेत्र के टेकटार पंचायत के सिरहुल्ली गांव स्थित अपने घर पहुंची। अभी वह पिता के साथ क्वारैंटाइन में है। ऐसी ही खूबसूरत और चेहरे पे मुस्कान ली आने वाली कहानियों, किस्सों और हर दिन की ख़बरों के लिए सुनिए मुख्य खबरें, ख़बरी पर. धन्यवाद

Show more
content-cover-image
आज की मुस्कान: क्या मजबूरी थी जो इस बेटी ने 1000 KM साईकिल चलाई? मुख्य खबरें