content-cover-image

रोजगार के मामले में खस्ताहाल सरकार, प्राइवेट में भी नौकरी की कमी

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

रोजगार के मामले में खस्ताहाल सरकार, प्राइवेट में भी नौकरी की कमी

सरकार की तरफ से देश में नौकरियों के तमाम दावे किए जा रहे हैं. बावजूद आज भी नौकरियों के मामले में देश का खस्ताहाल है. एक आर्थिक सर्वे के मुताबिक, देश में सेना को छोड़कर 1.5 करोड़ नौकरियों की जरूरत है. वहीं भारतीय रिजर्व बैंक की रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, देश जीडीपी में पिछले दो सालों में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन रोजगार वृद्धि दर में कमी देखी गई है. अगर सरकारी क्षेत्र में नौकरियों की बात की जाए तो सबसे ज्यादा नौकरी देने का काम भारतीय रेलवे करता है. भारतीय सेना में 13 लाख कर्मचारी फिलहाल काम कर रहे हैं. इंडिया पोस्ट में करीब साढ़े 4 लाख से ज्यादा कर्मचारी हैं. इसके अलावा बैंकिंग सेक्टर में भी युवाओं को नौकरियां मिल रही है. बैंकिंग सेक्टर में सबसे ज्यादा स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में 2.2 लाख कर्मचारी काम कर रहे हैं. बावजूद इसके युवाओं के लिए अभी भी नौकरियों की काफी कमी है. आर्थिक सर्वे के मुताबिक, देश में डेढ़ करोड़ और नियुक्तियों की जरूरत है. लेकिन बात नौकरी देने वाले कंपनियों की करें तो एनएचपीएसी, ओएनजीसी, कोल इंडिया और सेल जैसी पीएसयू में नियुक्तियां लगभग बंद है. इसके अलावा कॉरपोरेट कंपनियों जैसे आईटीसी, रिलाइंस इंड्रस्ट्रीज में भी नई नौकरियां न के बराबर ही है.

Show more

content-cover-image
रोजगार के मामले में खस्ताहाल सरकार, प्राइवेट में भी नौकरी की कमीबॉलीवुड के किस्से