content-cover-image

हनीट्रैप में कैद सिपाही अब कानून की कैद में

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

हनीट्रैप में कैद सिपाही अब कानून की कैद में

यूपी एटीएस ने हनीट्रैप के मामले में बीएसएफ जवान अच्युतानंद मिश्रा को गौतमबुद्धनगर (नोएडा) से गिरफ्तार किया है. वो फेसबुक से महिला से दोस्ती कर गोपनीय जानकारी आतंकी संगठन आईएसआई को लीक करता था. गिरफ्तार जवान मूलरूप से मध्यप्रदेश के रीवा जनपद का रहने वाला है. यूपी एटीएस की नोएडा यूनिट ने उसे गिरफ्तार किया है. यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि बीएसएफ का जवान अच्युतानंद मिश्रा सोशल मीडिया पर एक विदेशी महिला के नाम से बनाए गए फर्जी फेसबुक आईडी से दोस्ती करके उसको स्शस्त्र बलों की सारी जानकारी देता था. उसने शुरुआती पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार करते हुए बीएसएफ और सेना के प्रशिक्षण केन्द्रों की सूचनाएं व खुफिया जानकारी देने की बात कबूली है. सिपाही अच्युतानंद साल 2006 में बीएसएफ में भर्ती हुआ था और साल 2016 में उस वक्त हनीट्रैप का शिकार हुआ, जब उसने खुद को सेना का रिपोर्टर बताने वाली महिला से फेसबुक पर दोस्ती की. आरोपी सिपाही ने उस महिला मित्र का नाम अपने फोन पर 'पाकिस्तानी दोस्त' के नाम से सेव किया है और उसकी बातों में आकर कई गोपनीय सूचनाएं देना शुरू कर दिया. वहीं आईजी असीम अरुण ने बताया कि पकड़ा गया सिपाही पाकिस्तानी नम्बर पर व्हाट्सएप से काफी समय से चैट कर रहा था. चैटिंग में उसे धर्म परिवर्तन और कश्मीर पर भारत विरोधी बात कह कर प्रभावित भी किया जा रहा था. उन्होंने बताया कि सिपाही को लखनऊ में न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा और रिमांड पर लेकर पूछा जाएगा कि इस नेटवर्क में और कौन-कौन लोग शामिल हैं. इसी हनी ट्रैप और जासूसी से बचने के लिए सशस्त्र बलों के सदस्यों को जागरूक किया जाएगा.

Show more
content-cover-image
हनीट्रैप में कैद सिपाही अब कानून की कैद में मुख्य खबरें