content-cover-image

SC का ऐतिहासिक फैसला, सबरीमाला मंदिर में जा सकेंगी महिलाएं

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

SC का ऐतिहासिक फैसला, सबरीमाला मंदिर में जा सकेंगी महिलाएं

केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार 28 सितम्बर को खत्म कर दिया । सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की बेंच ने 4-1 के हिसाब से महिलाओं के पक्ष में फैसला सुनाया। मतलब चार जज महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को हटाने के पक्ष में थे जबकि एक ने इसका विरोध किया था । पिछले करीब 800 साल से मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर रोक थी । चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस चंद्रचूड़, जस्टिस नरीमन, जस्टिस खानविलकर ने महिलाओं के पक्ष में एक मत से फैसला सुनाया जबकि महिला जज इंदु मल्होत्रा ने सबरीमाला मंदिर के पक्ष में फैसला दिया । दीपक मिश्रा ने कहा कि आस्था के नाम पर लिंगभेद नहीं किया जा सकता। कानून और समाज का काम सभी को बराबरी से देखने का है। महिलाओं के लिए दोहरा मापदंड उनके सम्मान को कम करता है। चीफ जस्टिस ने कहा कि भगवान अयप्पा के भक्तों को अलग-अलग धर्मों में नहीं बांट सकते हैं। फैसले के बाद सबरीमाला मंदिर की ओर से याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि वह इस पर पुनर्विचार याचिका दायर करेंगे । सबरीमाला मंदिर प्रबंधन ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि 10 से 50 वर्ष की आयु तक की महिलाओं के प्रवेश पर इसलिए प्रतिबंध लगाया गया था क्योंकि मासिक धर्म के समय वे शुद्धता बनाए नहीं रख सकतीं।

Show more

content-cover-image
SC का ऐतिहासिक फैसला, सबरीमाला मंदिर में जा सकेंगी महिलाएं मुख्य खबरें