content-cover-image
गोरखपुर पुलिस ने दिलाया भरोसा.."हम हैं ना"मुख्य खबरें
00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

गोरखपुर पुलिस ने दिलाया भरोसा.."हम हैं ना"
लखनऊ में हुए विवेक तिवारी केस के बाद , इन दिनों जहाँ हर तरफ पुलिस की आलोचना होती दिख रही रही हैं..वहीँ इसी बीच उत्तर प्रदेश के ज़िला गोरखपुर की पुलिस ने ये साबित किया है कि पुलिस विभाग में नियुक्त हर सिपाही एक जैसा नहीं होता.. कुछ जहाँ अपने पोजीशन और पॉवर का दुरूपयोग करने से बाज़ नहीं आते वहीँ कुछ ऐसे भी पुलिसवाले हैं जो अपने पद की प्रतिष्ठा कायम रख लोंगो के लिए कार्य करते हैं. इसी के तहत गोरखपुर पुलिस ने गरीबों के लिए एक अनोखी पहल शुरू की है . लोंगो को आश्वासन देती इस पहल का नाम है "हम हैं ना". यह मुहिम मानवता के अंतर्गत गरीबो को निःशुल्क खाना, निःशुल्क कपड़ा, निःशुल्क भोजन , गरीब बच्चों को निःशुल्क पढ़ाई और बीमार असहायों को निःशुल्क इलाज उपलब्ध कराएगी. इसके अंतर्गत हफ्ते में एक दिन असमर्थ लोंगो को बुनियादें ज़रूरतें प्रदान की जाएँगी, और इतना ही नहीं ..आने वाले समय में इसकी क्षमता को बढ़ाकर 300 गरीबों को प्रतिदिन मुफ्त भोजन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। गरीबों से जुड़ी इस मुहिम का सपना धर्मशाला चौकी प्रभारी प्रमोद सिंह ने देखा और जब इसे सामने रखा तो वरिष्ठ अधिकारियों ने भी ये काफी पसंद किया, इसके बाद पुलिस ने अथक मेहनत से इस सपने को हक़ीक़त के धरातल पर उतार दिया। भोजन उपलब्ध कराने की इसी समाजिक सेवा का उद्घाटन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने किया और गरीब असहाय लोगो के मददगार बन समाज में पुलिस को एक अलग चेहरा औऱ पहचान दिया।
Show more
content-cover-image
गोरखपुर पुलिस ने दिलाया भरोसा.."हम हैं ना"मुख्य खबरें