content-cover-image
नहीं मिली एंबुलेंस, बेटी के शव को कंधे पर ले गए घर

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

नहीं मिली एंबुलेंस, बेटी के शव को कंधे पर ले गए घर

जमुई के झाझा रेफरल अस्पताल प्रबंधन की अमानवीयता उस समय सामने आई जब इलाज के दौरान नाबालिग बच्ची की मौत के बाद लाश को घर ले जाने के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं कराई गई। गरीब तेजु मोहली आखिरकार शनिवार की रात बेटी की लाश को कंधे पर उठाकर चल दिये। झाझा रेफरल अस्पताल से तेजु मोहली लाश को लेकर झाझा स्टेशन पहुंचे और वहां से एक पैसेंजर ट्रेन पर चढ़कर टेलवा आये। पैसे नहीं होने की वजह से टेलवा स्टेशन पर उतरने के बाद वह बेटी की लाश को लेकर रविवार की सुबह पंचायत के मुखिया के घर पर गये। मुखिया ने कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत उसे तीन हजार रुपए दिए। पैसे मिलने के बाद पुन: तेजू मोहली बेटी की लाश को कंधे पर उठाकर घर पहुंचा। जिला स्वास्थ्य प्रबंधक सुधांशु नारायण लाल ने कहा कि अस्पताल में किसी की मौत होने जाने पर शव को घर तक पहुंचाने की जिम्मेवारी अस्पताल प्रशासन की होती है। वहीं सीएस जमुई श्याम मोहन दास कहते हैं की घटना की जांच की जायेगी।

Show more
content-cover-image
नहीं मिली एंबुलेंस, बेटी के शव को कंधे पर ले गए घरमुख्य खबरें