content-cover-image
अमृतसर ट्रेन हादसाः सामने आया रेलवे का एक बहुत बड़ा सच मुख्य खबरें
00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अमृतसर ट्रेन हादसाः सामने आया रेलवे का एक बहुत बड़ा सच
अमृतसर ट्रेन हादसे के चलते इंडियन रेलवे का एक ऐसा सच सामने आया है, जो हर किसी के लिए हैरतंगेज होगा। वहीं यह 59 मौतों का एक बड़ा कारण भी हो सकता है। बता दें कि रेलवे के कुछ भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों ने हजारों लोगों की सुरक्षा दांव पर लगा रखी है। अमृतसर में जिस जगह यह हादसा हुआ, वहां टैक्स चोरों की सहूलियत की खातिर दीवारों की मरम्मत नहीं कराई गई हैं और न ही गलियां बंद कराई गई हैं। यही कारण है कि आसपास के लोग आसानी से दशहरे वाले दिन पटरी पर पहुंच गए थे। रोजाना जौड़ा फाटक से करीब 30 ट्रेन अप डाउन करती हैं। अमृतसर आने वाली अधिकतर ट्रेन की स्पीड मानावाला स्टेशन से कम होनी शुरू हो जाती है। ट्रेन शिवाला फाटक, जौड़ा फाटक पर आकर इस कदर धीमी हो जाती है कि कोई आसानी से सामान उतार चढ़ा सकता है। रेलवे अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत से तो कई बार ट्रेन 20-20 मिनट तक खड़ी रहती है। कारण यह है कि दिल्ली व लुधियाना से बिना बिल के आने वाला सारा सामान इन फाटकों पर ही उतर जाता है, जहां पहले से खड़े आटो में लादकर उसे गंतव्य तक पहुंचा दिया जाता है। क्योंकि माल अगर स्टेशन पर पहुंचा तो वहां पर तैनात मोबाइल विंग की टीमें कार्रवाई कर देती हैं। शुक्रवार को दशहरा होने के कारण तमाम कारोबार बंद थे। यही कारण है कि ट्रेनें फाटक पर धीमी गति से नहीं रुकी, अन्यथा यह हादसा टल सकता था।
Show more
content-cover-image
अमृतसर ट्रेन हादसाः सामने आया रेलवे का एक बहुत बड़ा सच मुख्य खबरें