content-cover-image

राहुल पर साइबर अटैक

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

राहुल पर साइबर अटैक

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अक्सर कुछ न कुछ ऐसा कह जाते हैं कि लोग उनके सामान्य ज्ञान और राजनीतिक समझ पर सवाल उठा देते हैं । चाहे वो आलू की फैक्ट्री हो या चने और गेहूं का पेड़ । सोशल मीडिया पर उनकी छवि ऐसी बना दी गई कि लोग उनके ज्ञान को अधकचरा समझने लगे हैं । उन्हें तो सोशल मीडिया पर नाम भी पप्पू दे दिया गया है । लेकिन ये हमेशा नहीं होता । उनकी बातों को संदर्भहीन कर खूब प्रचारित किया जाता है । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान उनके भाषण के इस अंश को खूब प्रचारित प्रसारित किया गया जिसमें वो ये कहते सुने गए ..मशीन में एक तरफ आलू डालो दूसरी तरफ से सोना निकलेगा ..। इस बात का खूब मजाक उडा । अभी तक लोगों को विश्वास है कि राहुल गांधी ने ये बात बिना संदर्भ के कही। ताजा मामला मध्यप्रदेश में उनके भाषण का अंश है । ..मुझे प्रधानमंत्री बनाओ सूरज इधर के बजाय उधर से निकलेगा । पिछले दो दिन से उनके भाषण की ये लाईन सोशल मीडिया पर जोर पकडे है और वो मजाक के पात्र बने हुए हैं । लेकिन ये उनके पूरे भाषण के बीच की लाईन है जिसमें वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर व्यंग्य करते हुए कह रहे हैं कि विेदेश से काला धन लाने,हर खाते में 15 लाख रूपए डालने का वायदा मैं नहीं करूंगा और न ये कहूंगा कि मुझे प्रधानमंत्री बनाओ सूरज इधर के बजाय उधर से उगने लगेगा। बस सोशल मीडिया ने उनकी ये लाईन का वीडियो तेजी से डाला गया और इस पर चर्चा शुरू हो गई । जानकारी के अनुसार एस एक लाइन के एक हजार से ज्यादा वीडियो सोशल मीडिया पर चल रहे हैं । अब जिन लोगों को इस सच की जानकारी नहीं उनकी प्रतिक्रिया भी सुन लें । बेशक राहुल गांधी प्रधानमंत्री बन जायें लेकिन प्रकृति के नियमों को तो नहीं बदलें । सोशल मीडिया की ताकत सभी राजनीतिक दल जानते हैं और बीजेपी ने तो इसकी नब्ज खूब अच्छे तरीके से पकड़ी है । बीजेपी,मोदी और अमित शाह के नाम पर सैंकड़ों और हजारों की संख्या में व्हाट्सऐप ग्रुप हर राज्य मुख्यालय समेत जिलों में काम करती सोशल मीडिया की पूरी टीम विपक्ष के सभी नेताओं के बयान और उनके काम पर पूरी नजर रखती है । बीजेपी के सोशल मीडिया टीम की मजबूती का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सभी राजनीतिक दल एक हो कर भी उनका मुकाबला नहीं कर सकते । राहुल पर ये साइबर हमला अचानक या एकाएक नहीं है । इसे बडी सोची समझी नीति के तहत अंजाम दिया जा रहा है। बीजेपी की चाल है कि विपक्ष के सबसे ताकतवर नेता को ही नासमझ,नाकारा साबित कर दो ताकि कोई उम्मीद बची नहीं रह जाये । राहुल गांधी ,बीजेपी की सोशल मीडिया टीम का मुकाबला तो नहीं कर सकते लेकिन उससे सतर्क जरूर रह सकते हैं । उन्हें अपनी सोशल मीडिया टीम की हेड दिव्या स्पंदना को बताना होगा कि बीजेपी के ऐसे हमलों का मुकाबला कैसे करें । वो ये भी जान लें कि सोशल मीडिया किस तरह प्रभावी हो गया है और कैसे जनमानस पर असर करता है ।

Show more
content-cover-image
राहुल पर साइबर अटैक मुख्य खबरें