content-cover-image
शर्मनाक : क्योंकि यह भारत है इजराइल नहीं मुख्य खबरें
00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

शर्मनाक : क्योंकि यह भारत है इजराइल नहीं
एक छोटी सी घटना जो बहुत बड़ी है। बड़ी है उस देश के लिए जो महिला सुरक्षा और सम्मान की बात करता है और सरकार तो इसे सर्वोपरि मानती है। इसी देश के एक बड़े शहर की सबसे बड़ी शॉपिंग मॉल में भूख से बिलखते छोटे से बच्चे को माँ का दूध नहीं मिल सका। जी हाँ , बात है कोलकता की जहाँ बच्चे को स्तनपान करने के लिए माँ को इतनी बड़ी मॉल में एक कोना नसीब नहीं हुआ। एक महिला ने फेसबुक पर अपनी व्यथा बताई कि किस तरह वह स्टाफ से एक जगह मांगी जहाँ वह अपने बच्चे को स्तनपान करा सके। कई जगह न सुनने के बाद उससे कहा गया कि वह वाश रूम में चली जाएँ जहाँ बदबू के कारण वह ऐसा नहीं कर पेयी। इस पर भी तुर्रा देखिये जब फेसबुक पर मॉल के पेज पर उन्होंने अपने कथा सुनाई तो जवाब मिला , घर के काम घर में होने चाहिए , मॉल में नहीं। यह सुन कर आप चकित ज़्यादा हुए अथवा दुखी अथवा गुस्सा। लेकिन इससे कुछ हासिल नहीं होने वाला क्योंकि जो है वह मानसिकता है जिसे बदलना चाहिए। अब मॉल वाले कह रहे हैं कि फेसबुक पर ऐसा टिप्पणी करने वाले व्यक्ति फेसबुक पेज हैंडल कर रही एक बाहरी कंपनी का था जिससे यह काम छीन लिया गया है। अब बात करते हैं इजराइल की जहाँ एक सांसद ने संसद के अंदर कार्यवाही के दौरान अपने बच्चे को स्तनपान कराया और लोगों ने इसे सम्मानपूर्वक स्वीकार किया। उस सांसद माँ की मुस्कुराती हुई छवि अख़बारों और सोशल मीडिया की सुर्खियां बनी। काश ! भारत की इस महिला की भी ऐसी ही फोटो सोशल मीडिया पर आती लेकिन नहीं। यह मुद्दा महिला का है नहीं , वास्तव में यह मुद्दा मानवीयता का है जिसके बारे में कोलकाता की मॉल वालों को ही नहीं बल्कि हम सब को सोचना पड़ेगा।
Show more
content-cover-image
शर्मनाक : क्योंकि यह भारत है इजराइल नहीं मुख्य खबरें