content-cover-image

'संतों का है धर्मादेश, कानून लाओ या अध्यादेश'

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

'संतों का है धर्मादेश, कानून लाओ या अध्यादेश'

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए रविवार को नई दिल्ली में दीप प्रज्वलन और शंख ध्वनि के साथ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विश्व हिंदू परिषद की विराट धर्म सभा शुरू हो गई । मंच से हनुमान चालीसा का पाठ किया गया | रामलीला मैदान पूरी तरह खचाखच भर चुका है । फिर भी राम भक्तों के जत्थों के आने का सिलसिला जारी है । 'संतों का है धर्मादेश, क़ानून लाओ या अध्यादेश' के नारे गूंज रहे हैं | भीढ़ को काबू करना मुश्किल हो रहा है | धर्मसभा में शामिल होने के लिए साधू-संतों के साथ बड़ी संस्या में जनसमूह रामलीला मैदान में पहुँच गए हैं । मुख्य प्रवेश द्वार पर बढ़ती भीड़ के कारण समस्या बढ़ गयी है और भीड़ बेकाबू हो रही है | मौके पर महंत नवल किशोर दास ने कहा कि किसी का धर्म स्थान नहीं बदला जा सकता । अधर्मी और रामद्रोही का वहां अधिकार नहीं हो सकता । उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि जो राम का नहीं, वह किसी काम का नहीं । उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो 2019 के चुनाव में जनता उन्हें जवाब दे देगी | वह अयोध्या मैं भगवान राम के मंदिर निर्माण के संकल्प के साथ लगातार रामलीला मैदान की तरफ बढ़ रहे हैं । राम भक्तों में गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है । यहां कोई भगवान श्री राम के भक्त हनुमान की पोशाक में पहुंचा है तो कोई शंख लेकर | अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर का कटआउट लेकर भी लोग रामलीला मैदान में पहुंचे हैं ।

Show more
content-cover-image
'संतों का है धर्मादेश, कानून लाओ या अध्यादेश' मुख्य खबरें