content-cover-image
बुलंदशहर हिंसा हत्‍या मामले में नया मोड़

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

बुलंदशहर हिंसा हत्‍या मामले में नया मोड़

बुलंदशहर में गोकशी के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन के दौरान इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार सिंह की हत्‍या के मामले में एसआईटी और एसटीएफ की नजर तीनों दोस्‍तों पर लगी हुई है। बताया जा रहा है कि तीनों दोस्‍त चिंगरावठी गांव के ही रहने वाले हैं। महत्‍वपूर्ण बात यह है कि तीनों दोस्‍त घटना के बाद से ही फरार चल रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, घटना के सभी वीडियोज की गहनता से जांच करने के बाद पुलिस का शक इन तीनों दोस्‍तों पर गहरा रहा है। अभी तक जांच जिस दिशा में जा रही है, उसके आधार पर ऐसा माना जा रहा है कि इन तीनों दोस्‍तों में से ही किसी एक गोली चलाई, जिसके लगने से इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हुई। जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने इन तीनों के बारे में काफी जानकारी एकत्र की है। इनके मोबाइल नंबर पता चल गए हैं और अन्‍य तरीकों से तीनों दोस्‍तों की ट्रेकिंग की जा रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, तीनों दोस्‍तों के मोबाइल फोन भी बंद हैं। इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार सिंह की हत्‍या के मामले में पुलिस जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। कोर्ट से जेल ले जाने के दौरान जीतू फौजी ने पुलिस पर उसके घर में तोड़फोड़ करने के आरोप लगाए। उससे पुलिस ने काफी कड़ी पूछताछ की, लेकिन जीतू फौजी बार-बार यही कह रहा है कि उसने गोली नहीं चलाई। जीतू फौजी ने मान कि उस वक्‍त वह घटनास्‍थल पर मौजूद था, लेकिन उसने गोली नहीं चलाई।

Show more
content-cover-image
बुलंदशहर हिंसा हत्‍या मामले में नया मोड़मुख्य खबरें