content-cover-image

रोज़ एक सैनिक शहीद..

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

रोज़ एक सैनिक शहीद..

२५ फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल देश को समर्पित किया। यु तो प्रथम विश्व युद्ध और इसके बाद सन् 1971 के युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में इण्डिया गेट और अमर जवान ज्योति की स्थापना की गई है| पर नेशनल वॉर मेमोरियल की खास बात ये है कि यह पहला ऐसा मेमोरियल है जहां आजादी के बाद हुए हर युद्ध के शहीदों के नाम दर्ज हैं। जो की इंडिया गेट के करीब ४० एकड़ जमीं में फैला हुवा है| ये तो रही वॉर मेमोरियल की बात| अब बात करते है शहीदों की| नेशनल वॉर मेमोरियल में 25,942 सनिको के नाम दर्ज है| जो आजादी के बाद से अब तक के है| यानी 1947 से लेकर अब तक| यह पूरा समय 71 साल का है| जिसे अगर हम दिन में परिवर्तित करें तो यह आकड़े होंगे 71*365= 25915 दिन। वॉर मेमोरियल पर शहीदों के कुल नाम 25942 हैं। यानी इस देश की आजादी के लिए हर रोज एक से भी ज्यादा सैनिक अपनी जान की बाजी लगा रहा है। ये तो उन्ही सैनिकों का नाम है जिनका लिखित आकड़े है|पर कितने सैनिक ऐसे है जो बर्फबारी में लापता हो जाते है उनको भी अगर जोड़ दे तो श्रोतावो सच में ये आँकड़े चौंकाने वाले हैं. आपको ये सुन कर कैसा लगा..रोज एक सैनिक देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर रहा है| सैनिको के प्रति आप अपने भाव और विचार हमारे साथ कमेंट के माध्यम से शेयर करे| धन्यवाद |

Show more
content-cover-image
रोज़ एक सैनिक शहीद..मुख्य खबरें