content-cover-image

जब फील्ड मार्शल करिअप्पा के बेटे बने थे युद्धबंदी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जब फील्ड मार्शल करिअप्पा के बेटे बने थे युद्धबंदी

पाकिस्तानी एयरफोर्स को भागने पर मजबूर करने वाली इंडियन एयरफोर्स के पायलट अभिनंदन इस वक्त पाकिस्तान के कब्जे में है. भारत सरकार अभिनंदन को भारत वापस लाने की हर संभव कोशिश में जुटी है. आपको बता दें इतिहास में ऐसा पहले भी हुआ है जब इंडियन एयरफोर्स के पायलट पाकिस्तान के हत्थे चढ़े हैं. कुछ ऐसा ही आजादी के बाद भारतीय सेना के पहले सेना प्रमुख केएम करिअप्पा के बेटे के साथ भी हुआ था. 1965 के भारत-पाक युद्ध के वक्त करिअप्पा के बेटे केसी नंदा करिअप्पा को पाकिस्तान ने बंदी बना लिया था. युद्ध के दौरान उनका विमान पाकिस्तान सीमा में प्रवेश कर गया, जिसे पाक सैनिकों ने गिरा दिया. करिअप्पा के बेटे ने विमान से कूदकर जान तो बचा ली, लेकिन वो पाक सैनिकों के हत्थे चढ़ गए. 1965 युद्ध के दौरान पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान थे, जो कभी करिअप्पा के जूनियर थे और भारतीय सेना में नौकरी कर चुके थे. उन्हें जैसे ही करिअप्पा के बेटे नंदा के पकड़े जाने का पता चला उन्होंने तुरंत उन्हें फोन किया और बताया कि वो उनके बेटे को रिहा कर रहे हैं. इस पर करिअप्पा ने बेटे का मोह त्याग कर कहा कि वो सिर्फ मेरा बेटा नहीं, भारत मां का लाल है. उसे रिहा करना तो दूर कोई सुविधा भी मत देना. उसके साथ आम युद्धबंदियों जैसा बर्ताव किया जाए. करिअप्पा ने अयूब खान से कहा कि या तो आप सभी युद्धबंदियों को रिहा करें या फिर किसी को नहीं. हालांकि युद्ध खत्म होने के बाद सभी युद्धबंदियों को रिहा कर दिया गया. to kuch aise supoot janme hain hamari bharat ma ne, ek ek apni matrbhoomi par nyochawar hone ko tatpar. wing cdr abhinandan ki sakushal wapsi ki kaamna karte hue.. jai hind!

Show more
content-cover-image
जब फील्ड मार्शल करिअप्पा के बेटे बने थे युद्धबंदी मुख्य खबरें