content-cover-image

जवानों की जान बचाएगी DRDO की नई दवाई

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जवानों की जान बचाएगी DRDO की नई दवाई

गंभीर रूप से घायल सुरक्षाकर्मियों में से 90 प्रतिशत कुछ घंटे में दम तोड़ देते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की चिकित्सकीय प्रयोगशाला 'कॉम्बैट कैजुअलिटी ड्रग्स' लेकर आई है, जिससे घायल जवानों को अस्पताल में पहुंचाए जाने से पहले तक के बेहद नाजुक समय को बढ़ाया जा सके, जिसे घायल जवानों की जान बचाने के लिहाज से ‘गोल्डन’ समय कहा जाता है। DRDO के वैज्ञानिकों ने बताया कि इन दवाओं में रक्तस्राव वाले घाव को भरने वाली दवा, अवशोषक ड्रेसिंग और ग्लिसरेटेड सैलाइन शामिल हैं। ये सभी चीजें जंगल, अत्यधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में युद्ध और आतंकवादी हमलों की स्थिति में जीवन बचा सकती हैं। वैज्ञानिकों ने 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकवादी हमले का जिक्र किया, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। उनका कहना है कि इन दवाओं से मृतक की संख्या में कमी लाई जा सकती है। घायल होने के बाद और अस्पताल पहुंचाए जाने से पहले यदि घायल को प्रभावी प्राथमिक उपचार दिया जाए तो उसके जीवित बचने की संभावना अधिक होती है।

Show more
content-cover-image
जवानों की जान बचाएगी DRDO की नई दवाईमुख्य खबरें