content-cover-image

निषाद वोट बैंक किसके खाते में?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

निषाद वोट बैंक किसके खाते में?

उत्तर प्रदेश की राजनीति में जातीय समीकरण का बोलबाला हमेशा से रहा है. चुनाव कोई भी हो, राजनीतिक दल अपने अपने जातीय समीकरण को फिट करने की कोशिश में जुटे रहते हैं. हाल ही में गोरखपुर उप चुनाव के नतीजे और वाराणसी में प्रियंका गांधी की बोट यात्रा ने पूर्वांचल में निषाद वोट बैंक को चर्चा में ला दिया है. पूर्वांचल में की लगभग 25 लोकसभा सीटों पर निषाद मतदाताओं की अच्छी पैठ मानी जाती है. यूपी की वाराणसी और गोरखपुर लोकसभा सीट पर निषाद मतदाता सबसे ज्यादा संख्या में हैं. निषाद मतदाता पूर्वी यूपी में अपना असर समय समय दिखाते रहे हैं. यही कारण है कि लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी, सपा और कांग्रेस जैसे दल निषाद वोट बैंक को अपने पाले में लाने की कवायद में जुटे हैं. प्रियंका गांधी ने प्रयागराज से लेकर वाराणसी तक नाव यात्रा कर निषाद यानि मछुआरों को प्रभावित करने की कोशिश की. तो वहीं, समाजवादी पार्टी ने निषाद पार्टी से लोकसभा चुनाव को लेकर गठबंधन किया है.

Show more
content-cover-image
निषाद वोट बैंक किसके खाते में?मुख्य खबरें