content-cover-image

अवास्तविक बहादुरी से नहीं होगा देश का भला

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अवास्तविक बहादुरी से नहीं होगा देश का भला

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कहना है कि भारत को ऐसे नेताओं की जरूरत है जो लोगों की बढ़ती अपेक्षाओं को पूरी कर सकें क्योंकि 'अवास्तविक बहादुरी' देश का नेतृत्व नहीं कर सकती है। उन्होंने यह बातें सोमवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहीं. उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, भारत को ऐसे नेताओं की जरूरत है जो बढ़ती अपेक्षाओं को पूरा कर सकें। देश को गरीबी से मुक्ति पाने के लिए अभी बहुत लंबा रास्ता तय करना है।' उन्होंने इस बात को लेकर अपनी चिंता जाहिर की कि देश के एक फीसदी भारतीयों के पास कुल धन का 60 फीसदी हिस्सा है।

Show more
content-cover-image
अवास्तविक बहादुरी से नहीं होगा देश का भलामुख्य खबरें