content-cover-image

Chunav spl. Akola - जीत का चौका लगाने उतरेगी BJP

Elections 2019

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Chunav spl. Akola - जीत का चौका लगाने उतरेगी BJP

महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों पर 4 चरणों में मतदान होंगे, जिसमें अकोला समेत 10 लोकसभा सीटों पर दूसरे चरण में वोटिंग होगी. यानी 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. अकोला सीट पर 2019 लोकसभा चुनाव के लिए कुल 11 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. जिसमें बहुजन समाज पार्टी ने भाई बीसी कांबले को टिकट दिया है जबकि भारतीय जनता पार्टी ने धोत्रे संजय शामराव को चुनाव मैदान में उतारा है. इसके अलावा कांग्रेस ने इस बार भी हिदायतुल्ला बरकतुल्लाह पटेल को ही अकोला सीट से प्रत्याशी घोषित किया है. वहीं वंचित बहुजन अघाड़ी के प्रमुख प्रकाश आंबेडकर भी चुनाव मैदान में हैं. अकोला सीट पर इस बार भी बसपा, कांग्रेस और बीजेपी ने उन्हीं उम्मीदवारों को टिकट दिया है, जो 2014 में चुनावी मैदान में थे. बहुजन मुक्ति पार्टी से प्रवीण लक्ष्मणराव भाटकर चुनाव लड़ रही हैं, जबकि पीपुल्स पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रेटिक) से अरुण कंकर वानखेड़े चुनाव मैदान में उतरे हैं. इसके अवाला 5 निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे. जिनमें अरुण मनोहर ठाकरे, सामाजिक कार्यकर्ता ओंकार हरने अन्ना, प्रवीण चंद्रकांत कौरपुरिया, मुरलीधर पवार और सचिन गणपतलाल शर्मा शामिल हैं. गौरतलब है कि 2014 में महाराष्ट्र की अकोला लोकसभा सीट पर हुए चुनाव में बीजेपी के वरिष्ठ नेता संजय शामराव धोत्रे ने सीट पर अपना दबदबा कायम रखते हुए कांग्रेस के प्रत्याशी हिदायातुल्ला बरकतुल्ला पटेल, भारिप बहुजन महासंघ (बीबीएम) के उम्मीदवार प्रकाश यशवंत आंबेडकर और बसपा प्रत्याशी भाई बीसी कांबले को करारी मात दी थी. 2014 में यह लगातार तीसरा मौका था, जब बीजेपी नेता संजय शामराव धोत्रे ने अकोला लोकसभा सीट पर अपना कब्जा बनाए रखा और जीत की हैट्रिक लगाई थी. अकोला की 6 विधानसभा सीटों पर पार्टी समीकरण देखा जाए तो इस क्षेत्र में अकोट, बालापुर, अकोला पूर्व, अकोला पश्चिम, मूर्तिजापुर और वाशिम जिले के रिसोड विधानसभा क्षेत्र आते हैं. अकोट, अकोला पश्चिम, अकोला पूर्व, मूर्तिजापुर विधानसभा पर अभी बीजेपी का कब्जा है तो वहीं, रिसोड़ विधानसभा पर कांग्रेस का कब्जा है तो बालापुर विधानसभा पर भारिप बहुजन महासंघ का कब्जा है. महाराष्ट्र की अकोला लोकसभा सीट अभी बीजेपी के कब्जे में है, लेकिन इस सीट का इतिहास अलग रहा है. दरअसल, यहां जिस दल का सांसद चुना जाता है उसके विपरीत केंद्र और राज्य में दूसरी पार्टी की सत्ता रही है. इस लोकसभा सीट से बीजेपी के शामराव धोत्रे सांसद हैं, उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता पटेल हिदायतुल्ला को हराया था. Akola की कुल आबादी 22,11,204 है , जिसमें से 65 फीसदी लोग गाँव में, और 34 फीसदी लोग शहर में निवास करते हैं. बता दें कि एक वक्त में अकोला लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ थी. यहां लगातार 25 साल कांग्रेस पार्टी ने जीत हासिल की. 1957 से 1967 तक यहां लगातार कांग्रेस को जीत मिली. इस दौरान गोपालराव खेडकर, एम.एस. हक और के.एम. असगर हुसैन यहां से सांसद चुने गए. लेकिन बदलते सियासी समीकरण के साथ इस सीट पर बीजेपी का कब्जा होता चला गया. ऐसे में देखना होगा कि 2019 में अकोला लोकसभा सीट पर किसकी विजय होगी , कांग्रेस अपनी जीत का टूटा हुआ सिलसिला दोबारा कायम कर पायेगी या एक बार फिर से bjp मारेगी बाज़ी .

Show more
content-cover-image
Chunav spl. Akola - जीत का चौका लगाने उतरेगी BJPElections 2019