content-cover-image

Special: वैश्विक आतंकी घोषित मसूद पर ये होंगे असर

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Special: वैश्विक आतंकी घोषित मसूद पर ये होंगे असर

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया है। बता दें कि भारत पिछले काफी समय से मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करवाने के लिए जुटा हुआ था। लेकिन, बार-बार चीन इस मामले में वीटो का इस्तेमाल करता आया था।लेकिन अब मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगने के बाद उसपर कई तरह से असर पड़ेगा । मसूद पर मुख्यत: तीन तरह के प्रतिबंध लगेंगे - #संपत्ति जब्त करना- इस सूची में शामिल होते ही संयुक्त राष्ट्र के नियमों के अनुसार सभी देश बिना देरी किए संबंधित व्यक्ति, समूह या संस्था का धन, वित्तीय संपत्ति और आर्थिक संसाधनों को जब्त कर लेते हैं। यानी आतंकी मसूद अजहर अब कौड़ियों का मोहताज होगा क्यूकि उसकी दुनिया भर में साड़ी सम्पति जब्त कर ली जाएगी. #यात्रा पर प्रतिबंध- प्रतिबंधित सूची में शामिल लोगों, जिनमें अब एक मसूद भी है, उनका विश्व के किसी भी देश में आने-जाने पर प्रतिबंध लग जाता है। इसके अलावा वह जिस देश में है उसमें भी स्वतंत्र रूप से यात्रा नहीं कर सकता है। यानी एक जगह कैद होकर रह जायेगा अजहर. #शस्त्र पर प्रतिबंध- संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में शामिल होते ही संबंधित व्यक्ति या संस्था को किसी भी देश या संगठन द्वारा हथियारों का खरीद-फरोख्त, उसके पुर्जों, मैटेरियल, तकनीकी की जानकारी देने पर प्रतिबंध लग जाता है। प्रतिबंधित व्यक्ति या संस्थान किसी भी देश का झंडा लगा वायुयान या जलपोत का उपयोग नहीं कर सकता है। यानी की साफ़ तौर पर मसूर अजहर को अपनी आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगाना होगा या अगर नहीं सुधरा तो अपने नापाक कामों को अंजाम देने में उसे कई दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा . बता दें कि भारत ने 2009 में मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद 2016 में भारत ने इस संबंध में पी3 देशों यानी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिल कर संयुक्त राष्ट्र की 1267 सदस्यीय प्रतिबंध समिति के समक्ष मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद 2017 में भारत ने पी3 देशों के साथ इसी प्रकार का प्रस्ताव फिर से पेश किया था लेकिन सभी मौकों पर वीटो का अधिकार रखने वाले सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य चीन ने अपने अधिकार का इस्तेमाल करके इसमें अडंगा डाला था। आज संयुक्त राष्ट्र ने पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को ग्लोबल आतंकी घोषित कर दिया है। JeM का प्रमुख मसूद अजहर मुंबई हमले का भी मुख्य आरोपी है। दरअसल चीन पाकिस्तान का बेहद करीबी मुल्क है, और वह पहले भारत फिर अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के प्रस्ताव पर तकनीकी रोड़े अटका चुका है। सब की निगाहें अब इस ओर लगी हैं कि UN के इस फैसले पर चीन अब क्या रुख अपनाता है।

Show more
content-cover-image
Special: वैश्विक आतंकी घोषित मसूद पर ये होंगे असर मुख्य खबरें