content-cover-image

Chandrayaan-2: 9-16 जुलाई के बीच होगी Launching

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Chandrayaan-2: 9-16 जुलाई के बीच होगी Launching

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो 11 साल बाद एक बार फिर चंद्रमा की सतह को खंगालने के लिए तैयार है. इसरो ने बुधवार को ट्वीट किया कि वह चंद्रयान-2 को 9 से 16 जुलाई के बीच छोड़ेगा. और उम्मीद जताई कि वह चंद्रमा पर 6 सितंबर को उतरेगा. चंद्रयान-2 के तीन हिस्से हैं, जिनके नाम ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर हैं. इस प्रोजेक्ट की लागत 800 करोड़ रुपए है. 9 से 16 जुलाई के बीच चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी 363,726 किलोमीटर के आसपास रहेगी. अगर मिशन सफल हुआ तो अमेरिका, रूस, चीन के बाद भारत चांद पर रोवर उतारने वाला चौथा देश होगा. यह प्रोज़ेक्ट इसरो के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी मार्क-3 से पृथ्वी की कक्षा के बाहर छोड़ा जाएगा. फिर उसे चांद की कक्षा में पहुंचाया जाएगा. करीब 55 दिन बाद चंद्रयान-2 चांद की कक्षा में पहुंचेगा. फिर लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा. इसके बाद रोवर उसमें से निकलकर विभिन्न प्रयोग करेगा. चांद की सतह, वातावरण और मिट्टी की जांच करेगा. वहीं, ऑर्बिटर चंद्रमा के चारों तरफ चक्कर लगाते हुए लैंडर और रोवर पर नजर रखेगा. साथ ही, रोवर से मिली जानकारी को इसरो सेंटर भेजेगा.

Show more
content-cover-image
Chandrayaan-2: 9-16 जुलाई के बीच होगी Launchingमुख्य खबरें