content-cover-image

जसूसी करके ढूंढी जाती पार्टियों की कमी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जसूसी करके ढूंढी जाती पार्टियों की कमी

दिल्ली के दंगल में कांग्रेस, भाजपा और आप ने पूरी ताकत झोंक दी है। तीनों पार्टियों ने एक-दूसरे की कमी या आचार संहिता उल्लंघन जैसा कुछ ढूंढना शुरू कर दिया है। इसके लिए खासतौर पर जासूसों की एक फौज तैयार की गई है। हाथ में मोबाइल और सिर पर संबंधित पार्टी की टोपी पहने ये जासूस किसी भी दल के रोड शो, डोर टू डोर कैंपेन, जनसभा और यहां तक कि पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठकों में भी घुसपैठ कर जाते हैं। दिनभर में इन जासूसों का जो भी फोटो या वीडियो बनता है, उन्हें शाम को पार्टी दफ्तर में आकर दे देते हैं। जासूसों को एक दिन का हजार रुपये मेहनताना मिलता है। बता दें कि दिल्ली में इस तरह की जासूसी का खेल सबसे पहले आम आदमी पार्टी ने शुरू किया था। जब पहली बार आप ने विधानसभा चुनाव लड़ा तो दूसरे दलों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए पांच सौ से ज्यादा कैमरे और मोबाइल फोन खरीदकर अपने कार्यकर्ताओं को दे दिए थे। अब वही खेल लोकसभा चुनाव में भी देखने को मिल रहा है। फर्क केवल इतना आया है कि पहले यह जासूसी केवल आप करती थी, अब उन्हें देखकर कांग्रेस और भाजपा वाले भी सचेत हो गए हैं। उन्होंने भी अपने जासूसों को आप के पीछे लगा दिया है।

Show more
content-cover-image
जसूसी करके ढूंढी जाती पार्टियों की कमीमुख्य खबरें