content-cover-image

प्रकृति की मार से ज्यादा भारी पड़ी पुलिस की मार

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

प्रकृति की मार से ज्यादा भारी पड़ी पुलिस की मार

महाराष्ट्र के सुखाग्रस्त इलाको से मुंबई आए परेशान लोगों को अब पुलिस की लाठी की मार झेलनी पड़ रही हैं. दो दिन पहले पुलिस की लाठी के बचने के चक्कर में दो महिने का बच्चा मां के हाथो से गिर गया और उसकी मौत हो गयी. सोलापूर उस्मानाबाद इलाके से सुखाग्रस्त किसान मुंबई के चेंबूर इलाके में अमर महल ब्रिज के नीचे रहते है. एक तो सुखे नें गांव छोड़ने पर मजबूर कर दिया है और अब साथ ही पुलिसवाले जीना हराम कर रहें है, ऐसी स्थिती में किसान परेशान हो गए है. खबर के मुताबिक चेंबूर के अमर महाल में स्थित इस ब्रिज के नीचे लगभग 13 से 15 परिवार रहते है. यह सभी पारधी समाज के है. जो की 20-30 सालो से सुखे की स्थिति में मुंबई आ आते है. यहां जो काम मिलता है वह काम करते है. दो दिन पहले रात को पुलिस आई और उन्हे यहां से भगाने लगी. पुलिस ने लाठियां बरसाना शुरु कर दिया, अफरातफरी मची, लोग भागने लगे तभी जया शिंदे के हाथो से उसका 2 महीने का बच्चा रास्ते पर गिर गया और उसकी वहीं पर मौत हो गई. वहीं दो महीनें के बच्चे दर्दनाक मौत की घटना के बाद ब्रिज के नीचे सन्नाटा है. लगातार संकट से झूझ रहे इन लोंगो का दर्द सुनने वाला कोई नहीं है , बल्कि इन्हें और दर्द दिए जा रहे हैं .

Show more
content-cover-image
प्रकृति की मार से ज्यादा भारी पड़ी पुलिस की मार मुख्य खबरें