content-cover-image

नक्सलियों के लिए काफी हैं भारतीय महिला कमांडो

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

नक्सलियों के लिए काफी हैं भारतीय महिला कमांडो

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में महिलाएं अब कमांडो के रूप में डीआरजी के लड़ाकों का साथ दे रही हैं और नक्सलियों के खिलाफ लड़ रही हैं. राज्य के धुर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले की सुशीला कारम कुछ समय पहले नक्सलियों के साथ पुलिस के खिलाफ लड़ती थी. इस दौरान कारम ने कई घटनाओं में नक्सलियों का साथ दिया, लेकिन जब वह माओवाद की खोखली विचारधारा के नाम पर खून खराबे से तंग आ गई तब पति के साथ पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. अब वह दंतेश्वरी माई की लड़ाका है. दंतेश्वरी देवी दंतेवाड़ा की देवी है और यहां उनका भव्य मंदिर है. माना जाता है कि दंतेश्वरी माई क्षेत्र के लोगों की रक्षा करती हैं. दंतेश्वरी देवी के नाम से दंतेवाड़ा पुलिस ने 'दंतेश्वरी लड़ाके' का निर्माण किया है जो राज्य की पहली महिला डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड यानी डीआरजी की टीम है. राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में डीआरजी के दल को सबसे तेज माना जाता है. यह दल स्थानीय युवा और आत्मसमर्पित नक्सलियों का समूह है जो यहां की भौगोलिक स्थिति से भंलीभांति परिचित हैं. डीआरजी ने पिछले कुछ वर्षों में नक्सल विरोधी कई अभियानों में सफलता पाई है और यह दल अब नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बल का बड़ा हथियार है. डीआरजी का उद्देश्य अपनी खोई हुई भूमि को फिर से प्राप्त करना और इसे माओवादी हिंसा से मुक्त कराना है.

Show more
content-cover-image
नक्सलियों के लिए काफी हैं भारतीय महिला कमांडोमुख्य खबरें