content-cover-image

Special : इस बार महज़ 3 साल बच्ची बनी शिकार, जानिए पूरा मामला !

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Special : इस बार महज़ 3 साल बच्ची बनी शिकार, जानिए पूरा मामला !

राज्यपाल ने धार्मिक नेताओं से इस शर्मनाक घटना की निंदा करने, लोगों से शांति बनाए रखने और असामाजिक तत्वों को समाज में शांति न बिगाड़ने की अपील की है. बच्ची के साथ रेप की घटना की निंदा करते हुए मुख्यधारा की राजनीतिक पार्टियों के साथ-साथ अलगाववादी ग्रुपों ने दोषियों के लिए कठोर सजा की मांग की है. पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि मामले की जांच के लिए एक स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम का गठन किया गया है. कश्मीर यूनिवर्सिटी, सेंट्रल यूनिवर्सिटी और इस्लामिक यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने भी क्लास का बहिष्कार कर प्रदर्शन किया. पुलिस ने सोमवार को एक प्राइवेट स्कूल के प्रिंसिपल को हिरासत में ले लिया, जिसने रेप के आरोपी ताहिर अहमद मीर के लिए माइनर सर्टिफिकेट जारी किया था. ताहिर को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस ने कहा कि ताहिर के पिता ने बयान दिया है कि उसका बेटा 20 साल का है. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और अलगाववादी नेताओं के साथ-साथ कई सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक संगठनों ने भी घटना के प्रति गुस्सा जताया है. महबूबा ने कहा कि ऐसे घिनौने जुर्म के गुनहगार को मुस्लिम शरिया कानून की बिनाह पर पत्थरों से मार-मार कर सजा-ए-मौत दी जानी चाहिए. वरिष्ठ अलगाववादी नेता उमर फारूक ने लोगों से शांति बनाए रखने और बदमाशों को सांप्रदायिक झगड़े का रूप देने से रोकना सुनिश्चित करने की अपील की. मामले की तह में जाएँ तो एक प्रदर्शनकारी ने कहा, आरोपी ताहिर अहमद उस छोटी तीन साल की बच्ची को पहले कुछ टॉफी दी. फिर उसे टॉयलेट में ले गया और इफ्तार से पहले उसके साथ बलात्कार किया. बाद में जब बच्ची ने अपने माता-पिता को पूरी बात बताई, तो उन्होंने हंगामा किया. कई लोग इकट्ठा हुए और आरोपी को पुलिस को सौंप दिया.

Show more
content-cover-image
Special : इस बार महज़ 3 साल बच्ची बनी शिकार, जानिए पूरा मामला !मुख्य खबरें