content-cover-image

Ex Air Vice Marshal ने किया Modi का बचाव

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Ex Air Vice Marshal ने किया Modi का बचाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'रडार व‍िज्ञान' की वजह से सोशल मीड‍िया में उनकी बहुत क‍िरकिरी हो रही है. एक तरफ लोग उनके बादलों वाले तर्क को हास्यापद बता रहे हैं तो कुछ लोग उनके 'रडार व‍िज्ञान' का समर्थन भी कर रहे हैं. उनका कहना है क‍ि बालाकोट एयर स्ट्राइक के समय बादलों की वजह से संभवत: फायदा म‍िला था. इस बारे में आजतक ऑनलाइन टीम ने भोपाल में पूर्व एयर वायस मार्शल आद‍ित्य व‍िक्रम पेठ‍िया से बात की जो 1971 के युद्ध में बीकानेर बॉर्डर के हवाई हमले में खुद शाम‍िल थे. इस हमले में उन्हें युद्धबंदी बनना पड़ा था और 5 महीने 3 दिन और 8 घंटे पाकिस्तान में यातना सही. जेल से रिहा होने के बाद उन्हें राष्ट्रपति वीवी गिरी ने 1973 में वीर चक्र से सम्मानित किया था. पेठ‍िया ने बताया क‍ि बादल और बार‍िश वाले मौसम में एयरक्राफ्ट उड़ाना हमेशा से चुनौतीपूर्ण रहा है और ऐसी स्थित‍ि से बचने की कोश‍िश की जाती है. छोटे-मोटे बादलों से तो रडार को ज्यादा फर्क नहीं पड़ता लेक‍िन यद‍ि घने बादल हैं तो लड़ाकू व‍िमानों की ब‍िल्कुल सही जानकारी म‍िलना कठ‍िन होती है. ये कुछ इस तरह है क‍ि जब बार‍िश, आंधी, तूफान आता है तो कुछ समय के ल‍िए टीवी के स‍िग्नल भी ड‍िस्टर्ब हो जाते हैं. वहीं ओडिशा से भाजपा के प्रमुख नेता और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बिजयंत पांडा ने भी प्रधानमंत्री मोदी के उस बयान का समर्थन क‍िया ज‍िसमें रडार के मौसम से प्रभाव‍ित होने की बात कही गई थी. बिजयंत पांडा ने मिशिगन टेक्निकल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की है. राजनीति में आने से पहले बिजयंत पांडा ने कॉर्पोरेट सेक्टर में नौकरी की. उन्होंने बीजू पटनायक और उनके बेटे और ओडिशा के मौजूदा मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ काम किया है. उन्होंने एक ल‍िंक श‍ेयर की ज‍िसमें रडार से र‍िलेटेड जानकारी दी गई है.

Show more
content-cover-image
Ex Air Vice Marshal ने किया Modi का बचाव मुख्य खबरें