content-cover-image

Chunav SPL.हिमाचल प्रदेश: हमीरपुर लोकसभा सीट, दो ठाकुरों के बीच जंग

Elections 2019

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Chunav SPL.हिमाचल प्रदेश: हमीरपुर लोकसभा सीट, दो ठाकुरों के बीच जंग

लोकसभा चुनाव 2019 की विशेष कवरेज में आज बात उस राज्य की, जहां भगवान शिव का वास है, जहां के खूबसूरत पहाड़, झरने और नदियां इंसान को प्राकृतिक सौंदर्य का एहसास कराते हैं और जहां की पावन हवा आपको आपसे मिलवाती है, जी हां आपने सही समझा, हम बात कर रहे हैं हिम के प्रदेश यानी कि हिमाचल की, 55,673 वर्ग किमी में फैले इस राज्य के बर्फीले पर्वत शिखर आसमान से बातें करते हैं तो इसकी हरी-भरी घाटियां किसी को भी मोहित कर सकती हैं। प्रकृति का अनमोल तोहफा हिमाचल प्रदेश उत्तर में जम्मू कश्मीर से , पश्चिम में पंजाब से, दक्षिण में हरियाणा-उत्तर प्रदेश से , दक्षिण-पूर्व में उत्तराखंड से और पूर्व में तिब्बत से घिरा हुआ है। हिमाचल प्रदेश के चार संसदीय सीटों में से एक हमीरपुर लोकसभा सीट, भारतीय जनता पार्टी का गढ़ है. इस सीट के अंतर्गत विधानसभा की 17 सीटे आती है. इनमे देहरा, सुजानपुर, जसवां-प्रागपुर, हमीरपुर, भोरंज, बरसार, नदौन, चिंतपूर्णी, गगरेट, हरोली, ऊना, श्री नैना देवीजी, झंडूता, कुटलैहड़, घुमारवीं, बिलासपुर और धरमपुर का नाम शामिल हैं. अब एक नजर डालते है इस सीट के इतिहास पर – हमीरपुर लोकसभा सीट से 1967 में कांग्रेस के प्रेमचंद वर्मा, 1971 में कांग्रेस के नारायण चंद, 1977 में जनता पार्टी के ठाकुर रंजीत सिंह, 1980 और 1984 में कांग्रेस के नरैन चंद्र, 1989 और 1991 में BJP के प्रेम कुमार धूमल, 1996 में कांग्रेस के विक्रम सिंह, 1998, 1999 और 2004 में BJP के सुरेश चंदेल ने हैट्रिक मारी, 2007 में BJP के प्रेम कुमार धूमल और 2008, 2009 और 2014 में BJP के अनुराग ठाकुर ने यहां से जीत हासिल की| 1967 के बाद से हुए 15 चुनावों पर नजर डाले तो अब तक इस सीट से सबसे ज्याद बीजेपी ने जीत दर्ज की है. इसने कुल 9 बार यहाँ से जीत का स्वाद चखा है| इसके बाद 5 बार कांग्रेस ने और एक बार जनता पार्टी ने यहाँ से जीत हासिल की है| अगर बात करे वर्तमान सांसद की तो इस वक्त भारतीय जनता पार्टी के नेता अनुराग ठाकुर यहाँ के सांसद हैं, जिन्होंने साल 2014 में कांग्रेस नेता राजेंद्र सिंह राणा को 98 हजार 403 वोटों से हराकर ये सीट अपने नाम की थी। इस सीट पर तीसरे स्थान पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार कमल कांत बत्रा रहे थे जिन्हें 15,329 वोट मिले थे। पिछले 5 सालों के दौरान लोकसभा में अनुराग ठाकुर की उपस्थिति 97 प्रतिशत रही है तो वहीं इन्होंने 1862 डिबेट में हिस्सा लिया और 439 प्रश्न पूछे हैं। उनकी शैक्षणिक योग्यता स्नातक है। बता दें कि ये रिकॉर्ड दिसंबर 2018 तक है। अगर समीकरण की बात करे तो यहाँ की कुल जनसंख्या 16,14,242 है| जिनमे 93.45% ग्रामीण, 6.58% शहरी, 23.75% SC और 1.46% ST है| यहाँ के कुल मतदातावों की संख्या 12,47,699 है| इनमे 6,33,572 पुरुष और 6,14,127 महिला मतदाता है| इस बार इस सीट से कुल 13 उम्मीदवार चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहे है| इसमें भाजपा ने एक बार फिर सांसद अनुराग ठाकुर पर दाव खेला है तो वही कांग्रेस ने रामलाल ठाकुर को मैदान में उतारा है। दरअसल यह दो ठाकुरों के बीच जंग है. तीन बार सांसद रह चुके अनुराग ठाकुर को कांग्रेस उम्मीदवार से इस बार कड़ी चुनौती मिल रही है। इससे पहले अनुराग के पिता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल भी तीन बार सांसद रहे हैं. लिहाजा मौजूदा चुनाव धूमल परिवार के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। चूंकि कांग्रेस के छह बार मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह की पूरी कोशिश है कि अनुराग इस बार चुनाव न जीत पायें। धूमल और वीरभद्र सिह के परिवार में राजनैतिक दुश्मनी किसी से छिपी नहीं है। यही वजह है कि हमीरपुर में चुनावी लड़ाई वीरभद्र सिंह बनाम धूमल बनती जा रही है। वीरभद्र सिंह के कट्टर प्रतिद्वंद्वी प्रेम कुमार धूमल इन दिनों अपना अधिकांश समय और ऊर्जा इसी इलाके में लगा रहे हैं, ताकि सुनिश्चित कर सकें कि उनका बेटा चौथी बार यहां से सांसद बन जाए। वही राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि नैना देवी निर्वाचन क्षेत्र से विधायक कांग्रेस के 67 वर्षीय रामलाल ठाकुर, अनुराग ठाकुर के खिलाफ एक मजबूत राजनेता साबित हो सकते हैं। लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी उसी सूरत में जीत पायेंगे, जब उन्हें बिलासपुर से लीड मिले व पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुखविन्दर सिंह सुक्खू उनके साथ चलें। बता दें, हमीरपुर में 19 मई को लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में मतदान होगा।

Show more
content-cover-image
Chunav SPL.हिमाचल प्रदेश: हमीरपुर लोकसभा सीट, दो ठाकुरों के बीच जंगElections 2019