content-cover-image

Central bank पर दबाव, करोड़ों का घाटा

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Central bank पर दबाव, करोड़ों का घाटा

सार्वजनिक क्षेत्र के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का घाटा वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में बढ़कर 2,477.41 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. बैंक के फंसे कर्ज के एवज में प्रावधान राशि बढ़ने की वजह से बैंक का घाटा बढ़ा है. बैंक को इससे पहले वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में 2,113.51 करोड़ रुपये का नुक्सान हुआ था. RBI के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, सूचीबद्ध बैंकों का कुल एनपीए 8.5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है. अब रिज़र्व बैंक ने बैंकों के लिए जानकारी देने के नियम और सख्त कर दिए हैं, लिहाजा इस आंकड़े के और बढ़ने का अंदेशा है. वित्तीय रेटिंग एजेंसी इक्रा ने इसके जल्द ही 9.25 लाख करोड़ रुपये के पार जाने और क्रिसिल ने 9.5 लाख करोड़ रुपये पहुंचने का अनुमान जताया है.

Show more
content-cover-image
Central bank पर दबाव, करोड़ों का घाटामुख्य खबरें