content-cover-image

Chunav Spl: बलिया- BJP और गठबंधन के बीच सीधा मुकाबला

Elections 2019

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Chunav Spl: बलिया- BJP और गठबंधन के बीच सीधा मुकाबला

पूर्वी उत्तर प्रदेश में गंगा और घाघरा नदी के बीच बलिया संसदीय क्षेत्र की पहचान पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के नाम से ही होती है। 1857 की क्रांति से प्रसिद्ध मंगल पाण्डे की जन्म भूमि बलिया ही है. ऐसा कहा जाता है कि इस क्षेत्र का नाम 'राजा बलि' के नाम से बलिया पड़ा. भारत के आठवें प्रधानमंत्री चंद्रशेखर इसी लोकसभा सीट से सांसद रहे थे. इस क्षेत्र में विधानसभा की पांच सीटें आती हैं, जिनमें जहूराबाद, बैरिया, फेफना, बलिया नगर और मोहम्मदाबाद शामिल हैं. जिसमे 4 पर BJP और एक पर SBSP का कब्ज़ा है| इस सीट पर पहली बार हुए 1952 में चुनाव हुआ था. तब निर्दलीय उम्‍मीदवार के तौर पर मुरली मनोहर ने जीत हासिल की थी. वहीं 1957 में कांग्रेस के राधा मोहन सिंह, 1962 में कांग्रेस के मुरली मनोहर और 1967-1971 में कांग्रेस के चंद्रिका प्रसाद ने दो बार जीत हासिल की थी. आखिरी बार इस सीट से कांग्रेस ने 1984 में चुनाव जीता था. इस सीट से प्रसिद्ध और दिग्गज नेता और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर ने कुल आठ बार (1977-2004) जीत हासिल की. इसके बाद 2008 में उपचुनाव हुआ जिसमें समाजवादी पार्टी के नीरज शेखर ने बसपा के विनय शेखर तिवारी को हराया, 2009 में भी नीरज शेखर बसपा प्रत्याशी को हराकर लोकसभा पहुंचे, लेकिन साल 2014 में यहां भाजपा ने जीत दर्ज की और भरत सिंह यहां से एमपी बने, पहली बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए भरत सिंह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सम्बन्धी मामलों की स्थाई समिति के सदस्य भी है। पिछले 5 सालों के दौरान इन्होंने लोकसभा की 51 डिबेट में हिस्सा लिया है और 425 प्रश्न पूछे हैं।

Show more
content-cover-image
Chunav Spl: बलिया- BJP और गठबंधन के बीच सीधा मुकाबलाElections 2019