content-cover-image

क्या Congress की मौत हो चुकी है?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

क्या Congress की मौत हो चुकी है?

लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजों में जिस तरह से NDA को भारी जीत मिलती दिखाई दे रही है, उसे देखते हुए स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव ने मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के खिलाफ बेहद ही तल्ख टिप्पणी की है। योगेंद्र यादव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को अब खत्म कर देना चाहिए। इस चुनाव में अगर कांग्रेस BJP को रोकने में असमर्थ सिद्ध होती है, तो इसका मतलब है कि उसका भारतीय इतिहास में कोई भी सकारात्मक योगदान नहीं है। एक चैनल के साथ एग्जिट पोल पर अपनी बातचीत में योगेंद्र यादव ने कहा कि आज की तारीख में कांग्रेस विकल्प देने के मार्ग में सबसे बड़ी एक मात्र बाधा है। योगेंद्र यादव आम आदमी पार्टी के फाउंडिंग मेंबर में से एक रहे हैं और वह केंद्र में कांग्रेस के रहते महागठबंधन की भूमिका पर संदेह करते रहे हैं। कई बार वह विपक्षी राजनीतिक दलों की टॉप लीडरशिप की कठोर शब्दों में आलोचना भी करते रहे हैं और इन्हें समान रूप से गैर-लोकतांत्रिक और भ्रष्ट करार देते रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि देश को बिना कांग्रेस के एक मजबूत विकल्प की जरूरत है। गौरतलब है कि अलग-अलग एग्जिट पोल को मिलाकर किए गए पोल में भी बीजेपी की नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन को 542 सीटों में 302 सीटें हासिल हो रही हैं। एग्जिट पोल के अनुमानों में बीजेपी को प्रचंड बढ़त के अनुमानों पर स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेन्द्र यादव ने कांग्रेस को जमकर कोसा था . यादव ने यहां तक कहा है कि कांग्रेस की मौत हो जानी चाहिए. हालांकि, अपने एक ट्वीट में योगेंद्र यादव ने कांग्रेस की ऐतिहासिक प्रासंगिकता को चुनौती देने वाले बयान पर बाद में सफाई दी। उन्होंने कहा कि उनके कथन से भारतीय इतिहास में कोई सकारात्मक भूमिका को लेकर कनफ्यूजन की स्थिति बन गई है। उन्होंने कहा कि वो निश्चित रूप से आजादी के पहले कांग्रेस और उसके बाद की महान भूमिका को खारिज नहीं कर सकते । सफाई में उन्होंने कहा कि उनका तात्पर्य था कि कांग्रेस के इतिहास को लेकर अब कोई सरकारात्मक भूमिका नहीं रह गई है, और वो इस बयान पर कायम हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव में यह भी साबित हो गया कि यह काम भी कांग्रेस के बस का नहीं है . अगर एग्जिट पोल की मानें जिनको ना मानने का कोई कारण नजर नहीं आता , क्षेत्रीय दल तो फिर भी थोड़ा बहुत विरोध करने में कामयाब हुए हैं कांग्रेस तो पूरी तरह से असफल हुई है. ऐसे में एक इतिहास के औजार के रूप में इसकी प्रासंगिकता समाप्त हो जाती है. कांग्रेस विचार के स्तर पर आज सांप्रदायिकता का मुकाबला भी नहीं कर पा रही है. योगेंद्र यादव ने कहा कि किसी भी साधारण कांग्रेस कार्यकर्ता से बात कीजिए वह वही भाषा बोलता है जो बीजेपी का कार्यकर्ता बोलता है. इस पार्टी के पास देश के लिए कोई स्पष्ट दिशा निर्देश हैं और अगर इसके पास ताकत भी नहीं है तो हमें एक बार सोचना चाहिए कि क्या यह पार्टी वास्तव में बीजेपी या अब जो देश के सामने आसन्न खतरा है उसका मुकाबला करने का औजार है या फिर मुकाबला करने का औजार बनाने के रास्ते में एक बाधा है? उनके tweet पर विवाद और बहस के बाद उनके शब्द बिलकुल ही विपरीत दिखे , अपने बयान पर सफाई देते हुए योगेन्द्र यादव ने कहा कि आजादी से पहले और उसके बाद कांग्रेस के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है, लेकिन मौजूदा हालत में इतिहास में कांग्रेस के लिए करने को कुछ नहीं रह जाएगा.

Show more
content-cover-image
क्या Congress की मौत हो चुकी है?मुख्य खबरें